कोरोना इफेक्ट: लॉकडाउन में न शहनाई बजी और न सरकार को मिला GST, जोधपुर में 38% की गिरावट

जोधपुर शहर को वेडिंग डेस्टिनेशन कहा जाता है. यहां सेलिब्रिटी से लेकर उद्योगपति और आमजन शादियों पर करोड़ों रुपये खर्च करते हैं.

जोधपुर शहर को वेडिंग डेस्टिनेशन कहा जाता है. यहां सेलिब्रिटी से लेकर उद्योगपति और आमजन शादियों पर करोड़ों रुपये खर्च करते हैं.

Corona side Effects: कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लगे लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जोधपुर में जीएसटी कलेक्शन में 38 फीसद की गिरावट आई है. शादियों के सीजन में कारोबारियों के साथ-साथ सरकार को भी हुआ राजस्व का नुकसान.

  • Share this:

जोधपुर. कोरोना संक्रमण (Corona infection) ने मरीजों की सेहत के अलावा सरकार की सेहत पर भी भारी असर डाला है. लॉकडाउन के चलते सरकारों की आर्थिक सेहत बिगड़ने लगी है. जोधपुर शहर में कोरोना के साइड इफेक्ट के चलते जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) में भारी गिरावट आई है.

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने जोधपुर शहर में हजारों मरीजों को अस्पताल पहुंचा दिया. एक लाख 28 हजार 866 लोग कोरोना की चपेट में आए. वहीं 2042 लोगों की कोरोना से मौत हो गई. इस बीच राज्य सरकार ने लॉकडाउन लगाया तो प्रदेश में सब व्यवसाय बंद हो गए . इससे जीएसटी कलेक्शन में भी भारी गिरावट देखने को मिली. जोधपुर में जीएसटी कलेक्शन में 38 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है.

शादियों की सीजन पर बड़ा असर

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में सभी आयोजन रद्द हो गए. खासकर शादियों के सीजन में सरकार को बड़ा आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ा. जोधपुर शहर को वेडिंग डेस्टिनेशन कहा जाता है. यहां सेलिब्रिटी से लेकर उद्योगपति और आमजन शादियों पर करोड़ों रुपये खर्च करते हैं. लेकिन लॉकडाउन के चलते ना शहनाई बजी और ना सरकार को जीएसटी मिला. लिहाजा केंद्र से लेकर राज्य सरकार को बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ है.
अनलॉक की शुरुआत से जीएसटी कलेक्शन बढ़ने की संभावना

प्रदेश में लॉकडाउन के बाद अब अनलॉक की शुरुआत हो चुकी है. आज से लगभग सभी व्यवसाय शुरू होने वाले हैं. कारोबार से टैक्स कलेक्शन के आकड़ों में भी सुधार की गुंजाइश मानी जा रही है. हालांकि शादियों पर अब भी गाइडलाइंस की सख्ती जारी है. लेकिन अन्य कारोबार शुरू होने से जीएसटी कलेक्शन में सुधार होगा. व्यापारियों को उम्मीद है कि जल्द ही सबकुछ ठीक होगा और उनकी और सरकार की आर्थिक स्थिति पटरी पर आ जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज