अपना शहर चुनें

States

जोधपुर: मरीजों को मिली बड़ी राहत, MDM में तैयार हुआ 20 हजार लीटर क्षमता का लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट

कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते रोजाना 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत हो रही थी.
कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते रोजाना 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत हो रही थी.

जोधपुर में स्वास्थ्य के क्षेत्र (Health sector) में राहत की बड़ी खबर आई है. यहां मरीजों को राहत देने के लिये संभाग के सबसे बड़े एमडीएम अस्पताल में 20 हजार लीटर क्षमता का लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट (Liquid oxygen plant) तैयार हो गया है.

  • Share this:
जोधपुर. कोरोना संक्रमण काल (Corona Transition Period) में अस्पतालों में भर्ती मरीजों को सबसे ज्यादा परेशानी ऑक्सीजन को लेकर उठानी पड़ी थी. ऑक्सीजन की कमी मरीजों के लिये परेशानी का सबब बन गई थी. लेकिन अब जोधपुर संभाग के सबसे बड़े मथुरादास माथुर अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट (Liquid oxygen plant) बनकर तैयार हो गया है. करीब 20 हजार लीटर लिक्विड ऑक्सीजन का यह प्लांट संभागभर के मरीजों को ऑक्सीजन की कमी पूरी करवायेगा.

पिछले 9 महीनों से जोधपुर शहर के तमाम अस्पताल कोरोना संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध करवाने के लिए परेशान होते नजर आए. संभाग के सबसे बड़े मथुरादास माथुर अस्पताल में रोजाना 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत हो रही थी. लेकिन अब राज्य सरकार की ओर से यहां लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट बनाकर तैयार कर देने से संभागभर के मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए नहीं भटकना पड़ेगा.

Rajasthan: 7 साल में पहली बार कांग्रेस के स्थापना दिवस पर पार्टी कार्यालय नहीं आए सचिन पायलट

कोरोना के कारण 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की प्रतिदिन खपत हो रही थी


मथुरादास माथुर अस्पताल के अधीक्षक डॉ. एम के आखिरी ने बताया कि अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की पहले तो कोई कमी नहीं थी. लेकिन कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते रोजाना 1000 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत हो रही थी. अब अस्पताल में ही लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट बनने से 20000 लीटर ऑक्सीजन प्रतिदिन मरीजों की जरूरत के हिसाब से उपलब्ध होगी. प्लांट बनकर तैयार हो गया है. अब एक-दो दिन में अस्पताल में ऑक्सीजन पाइप लाइन का जाल बिछा दिया जायेगा. यह प्लांट आईसीयू ऑपरेशन थिएटर में भर्ती मरीजों के लिये जरुरत के हिसाब से ऑक्सीजन की कमी को पूरा करेगा.

कोरोना संक्रमण का दूसरा बड़ा केन्द्र था जोधपुर
उल्लेखनीय है कि जोधपुर शहर राजस्थान में जयपुर के बाद कोरोना संक्रमण का दूसरा बड़ा केन्द्र था. यहां कोरोना संक्रमण की दर बेहद तेज थी. यहां फैले संक्रमण के कारण उसे काबू में करने के लिये स्वास्थ्य विभाग और पुलिस प्रशासन को जबर्दस्त मशक्कत करनी पड़ी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज