Home /News /rajasthan /

dead bodies changed in jodhpur big mistake of mathurdas mathur hospital institution got funeral done omg uproar rjsr

जोधपुर: अस्पताल ने बदल डाले शव, संस्था ने लावारिस मानकर करवा दिया अंतिम संस्कार, हंगामा मचा

जोधपुर में शव बदले जाने की घटना के बाद एमडीएम अस्पताल में हंगामा करते लोग और उनको समझाते प्रशासनिक अधिकारी.

जोधपुर में शव बदले जाने की घटना के बाद एमडीएम अस्पताल में हंगामा करते लोग और उनको समझाते प्रशासनिक अधिकारी.

जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल की बड़ी गफलत: जोधपुर के एमडीएम अस्पताल (MDM Hospital) की मोर्चरी के कर्मचारियों की बड़ी लापरवाही के कारण दो शव आपस में बदल (Dead bodies changed) गये. इस गफलत में लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने वाली संस्था को लावारिस शव की बजाय दूसरे का शव दे दिया. संस्था ने उसका अंतिम संस्कार भी करवा दिया. लेकिन जब उस मृतक के परिजन उसका शव लेने अस्पताल पहुंचे तो इस गफलत का खुलासा हुआ. उसके बाद वहां मृतक के परिजनों और समाज के लोगों ने वहां जमकर हंगामा किया.

अधिक पढ़ें ...

जोधपुर. सनसिटी जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल (Mathuradas Mathur Hospital) में बड़ी गफलत सामने आई है. यहां मोर्चरी में कार्यरत कर्मचारियों की लापरवाही के चलते दो शव आपस में बदल (Dead bodies changed) गये. मोर्चरी के कर्मचारियों ने लावारिस शव के जगह दूसरे मृतक का शव अंतिम संस्कार करने के लिये इस काम को करने वाली संस्था को सौंप दिया. उसके बाद जब उस मृतक के परिजन शव लेने पहुंचे तो घटना का खुलासा हुआ. इस पर वे बिफर गये और वहां हंगामा खड़ा कर दिया. सूचना पर पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी वहां पहुंचे और जैसे-तैसे समझा बुझाकर उनको शांत किया.

दरअसल जालोर के भवरानी गांव निवासी भैराराम सरगरा जोधपुर के बासनी इलाके में काम करता था. पिछले दिनों उसकी तबीयत खराब होने के बाद उसे मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. थाने से जब इस संबंध में सूचना उसके परिजनों को दी गई तो वे काफी दिनों तक शव लेने नहीं आए. इसी दौरान मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती राजेश नायक नामक व्यक्ति की भी मौत हो गई. यह व्यक्ति ‘अपना घर’ में रह रहा था.

घटना का पता चलते ही मचा हंगामा
राजेश नायक के भी कोई परिजन जब शव लेने नहीं पहुंचे तो हिंदू सेवा मंडल द्वारा उसका दाह संस्कार करवाने के लिए कार्रवाई शुरू की गई. कार्रवाई के दौरान मोर्चरी में कार्यरत कर्मचारियों की लापरवाही के चलते राजेश नायक की जगह हिंदू सेवा मंडल को भैराराम सरगरा का शव सौंप दिया गया. उसके बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया. दूसरी तरफ रविवार को जब भैराराम के परिजन उसका शव लेने पहुंचे तो उन्होंने देखा कि वह भैराराम का नहीं बल्कि किसी और का शव है. इस घटना की जानकारी मिलते सरगरा समाज के लोग बड़ी संख्या में मथुरादास माथुर अस्पताल की मूर्ति के बाहर एकत्रित हो गए.

यूं हुआ पूरे मामले का निपटारा
वे वहां अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का विरोध जताने लग गये. हंगामे की सूचना पर अतिरक्त जिला कलेक्टर राजेंद्र डांगा, उपखंड अधिकारी सुरेंद्र सिंह राजपुरोहित तथा पुलिस विभाग के एडीसीपी चक्रवर्ती सिंह मोर्चरी पहुंचे. उन्होंने परिजनों से समझाइश कर मामला शांत करवाया. उपखंड अधिकारी सुरेंद्र सिंह राजपुरोहित ने परिजनों को सरकार की नीति और नियमानुसार मुआवजा दिलवाने का आश्वासन दिया. उसके बाद हिंदू सेवा मंडल में रखे मृतक भैराराम की अस्थियों का कलश उन्हें सुपुर्द किया गया. तब जाकर पूरा मामला शांत हुआ.

Tags: Jodhpur News, Rajasthan latest news, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर