हाईकोर्ट ने चिकित्सा विभाग के स्थानांतरण आदेश पर रोक लगाई

जोधपुर हाईकोर्ट.
जोधपुर हाईकोर्ट.

जोधपुर स्थित राजस्थान हाईकोर्ट के जज जस्टिस पुष्पेन्द्र भाटी ने एक मामले की सुनवाई के दौरान चिकित्सा विभाग द्वारा जारी किए गए स्थानान्तरण आदेश पर रोक लगा दी. इसके साथ ही उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को नोटिस जारी करते हुए चार सप्ताह में जवाब भी मांगा है.

  • Share this:
जोधपुर स्थित राजस्थान हाईकोर्ट के जज जस्टिस पुष्पेन्द्र भाटी ने एक मामले की सुनवाई के दौरान चिकित्सा विभाग द्वारा जारी किए गए स्थानान्तरण आदेश पर रोक लगा दी. इसके साथ ही उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को नोटिस जारी करते हुए चार सप्ताह में जवाब भी मांगा है.

दरअसल, इस स्थानान्तरण आदेश पर चिकित्सा मंत्री के निजी सचिव द्वारा दूरभाष पर स्थानान्तरण करने के निर्देश दिए जाने का उल्लेख है, जिस पर कोर्ट ने राजस्थान स्वास्थ्य विभाग के सचिव, डायरेक्टर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग जयपुर, मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी उदयपुर, ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी गिरवा और डाॅ अदित्यसिंह राठौड़, स्वास्थ्य अधिकारी कोल्यारी उदयपु को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

याचिकाकर्ता उदयपुर के अलसीगढ़ के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी डाॅ कैलाश गुर्जर का एक स्थानान्तरण आदेश चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा गत 24 मई जारी किया गया था.



इस आदेश पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सर्राफ के निजी सचिव द्वारा फोन पर गुर्जर के स्थानान्तरण करने के आदेश का उल्लेख लिखित है. साथ ही डाॅ. आदित्यसिंह राठौड़ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कोल्यारी के स्थान पर डाॅ. कैलाश का स्थानान्तरण किया गया, जिस पर याचिकाकर्ता ने निजी सचिव द्वारा द्वेषपूर्ण स्थानान्तरण करने की बात करते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी.
इसकी सुनवाई करते हुए आज हाईकोर्ट के जस्टिस पुष्पेन्द्र भाटी की कोर्ट ने राजस्थान स्वास्थ्य विभाग के सचिव, डायरेक्टर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग जयपुर, मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी उदयपुर, ब्लाक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी गिरवा और डाॅ. अदित्यसिंह राठौड़, स्वास्थ्य अधिकारी कोल्यारी उदयपुर को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है. स्थानान्तरण आदेश पर भी रोक लगा दी है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज