लाइव टीवी

हिन्दू शरणार्थी छात्रा के सामने आया शिक्षा का संकट, शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा हम दिलवाएंगे परीक्षा
Jodhpur News in Hindi

Chandra Shekhar Vyas | News18 Rajasthan
Updated: January 2, 2020, 12:14 PM IST
हिन्दू शरणार्थी छात्रा के सामने आया शिक्षा का संकट, शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा हम दिलवाएंगे परीक्षा
दमी का परिवार 13 अगस्त, 2018 को पाकिस्तान से निकलकर हिंदुस्तान आया था और जोधपुर के आंगनवा क्षेत्र में रहने लगा था.

पाकिस्तान (Pakistan) में शोषण और यातनाओं (Torture) से परेशान होकर हिंदुस्तान (India) में शरण लेने वाली एक हिन्दू छात्रा (Student) के सपनों के बीच 'पात्रता' (Eligibility) की दीवार आ खड़ी हुई है.

  • Share this:
जोधपुर. पाकिस्तान (Pakistan) में शोषण और यातनाओं (Torture) से परेशान होकर हिंदुस्तान (India) में शरण लेने वाली एक हिन्दू छात्रा (Student) के सपनों के बीच 'पात्रता' (Eligibility) की दीवार आ खड़ी हुई है. पाकिस्तान से दसवीं की परीक्षा पास करके राजस्थान के जोधपुर (Jodhpur) जिले में शरण लेने वाली इस छात्रा के सामने इस बार अजमेर बोर्ड (Ajmer Board) ने परीक्षा के लिए 'पात्रता' का अड़ंगा लगा दिया है, जिससे छात्रा काफी मायूस हो गई. लेकिन मामला राज्य सरकार के संज्ञान में आने के बाद अब शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) ने मायूस हुई छात्रा को आश्वस्त किया है कि वे उसे परीक्षा दिलवाएंगे.

2018 को पाकिस्तान से निकलकर हिंदुस्तान आया था परिवार
पाक विस्थापित इस छात्रा का नाम है दमी उर्फ दीपा पुत्री चौथाराम कोली. दमी जोधपुर के आंगणवा क्षेत्र में पाक विस्थापित बस्ती में रहती है. इस बस्ती में ना तो लाइट है ना पक्के मकान हैं और ना ही किसी तरह की सुविधाएं हैं. दमी का परिवार 13 अगस्त, 2018 को पाकिस्तान से निकलकर हिंदुस्तान आया था और जोधपुर के आंगनवा क्षेत्र में रहने लगा. दमी ने दसवीं की परीक्षा पाकिस्तान से पास की थी.

बोर्ड ने छात्रा की 'पात्रता' पर जताई आपत्ति

यहां आने के बाद दमी ने जोधपुर के निजी स्कूल सरस्वती बालिका विद्यालय में दाखिला लिया. दमी ने साइंस सब्जेक्ट को चुना और 11वीं की परीक्षा अच्छे नंबरों पास की. अब उसने 12वीं की कक्षा की परीक्षा के लिए अजमेर बोर्ड से फॉर्म भरा. लेकिन अजमेर बोर्ड ने छात्रा की 'पात्रता' पर आपत्ति जताते हुए उसके सभी दस्तावेज वापस लौटा दिए. इससे दमी काफी मायूस हो गई और उसे अपने सपने बिखरते हुए नजर आने लगे.

पाकिस्तानी दूतावास को चिठ्ठी लिखी है
इस बीच मामले की गूंज राज्य सरकार तक पहुंचने के बाद शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि मामला सामने आया है. हमने पाकिस्तानी दूतावास को चिठ्ठी लिखी है. उनसे सिलेबस के बारे में पूछा है. अगर वह हमारे सिलेबस से मेल खाता होगा तो बहुत अच्छा है. अगर ऐसा नहीं भी हुआ तो हम नियमों में बदलाव करके भी छात्रा को एग्जाम दिलवाएंगे.







कैबिनेट ने किया 'टिड्डी टेरर' पर मंथन, सरकार प्रभावित किसानों को देगी मुआवजा

जवाबदेही कानून: गहलोत सरकार की तैयारी पूरी, 15 दिन में होगा शिकायतों का समाधान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जोधपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 11:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर