खूबियां गिनाते हुए टेक्सटाइल पार्क के लिए जोधपुर का मजबूत दावा, कहा- हमारे पास सब कुछ

टेक्सटाइल पार्क के लिए कुल 1000 एकड़ भूमि की आवश्यकता है. जोधपुर और पाली के बीच काफी भूमि उपलब्ध है.

टेक्सटाइल पार्क के लिए कुल 1000 एकड़ भूमि की आवश्यकता है. जोधपुर और पाली के बीच काफी भूमि उपलब्ध है.

Mission for Textile park: जोधपुर ने टेक्सटाइल पार्क (Textile park) की स्थापना को लेकर मुहिम शुरू कर दी है. यहां के उद्योगपतियों का कहना है कि इसके लिये जोधपुर में तमाम सुविधायें (All facilities) उपलब्ध हैं.

  • Share this:
जोधपुर. देश में 7 टेक्सटाइल पार्क बनाने के लिए केन्द्र सरकार की बजट में घोषणा के बाद राजस्थान के 2 शहर अपनी खूबियां गिनाते हुए इसे लेकर अपना-अपना दावा कर रहे हैं. जोधपुर (Jodhpur) में टेक्सटाइल पार्क की स्थापना करने को लेकर शहर के उद्योगपतियों ने मुहिम (Campaign) शुरू कर दी है. एक दिन पहले भीलवाड़ा के उद्योगपतियों ने टेक्सटाइल पार्क को भीलवाड़ा में स्थापित करने की मांग की तो दूसरे ही दिन जोधपुर के उद्योगपतियों ने केन्द्र सरकार से शहर में टेक्सटाइल पार्क को लेकर बातचीत करना शुरू कर दी है. उद्योगपतियों को कहना है कि यहां टेक्सटाइल पार्क के लिये सबकुछ संसाधन और सुविधाएं उपलब्ध हैं.

बता दें कि जोधपुर शहर में टेक्सटाइल उद्योग 50 साल से भी ज्यादा पुराना है. यहां का टेक्सटाइल कारोबार(Textile Business) देश-विदेश में मशहूर है. मजबूत टेक्सटाइल इंडस्ट्री (Textile Industry) के चलते यहां कुशल श्रमिक (Skilled Labor) भी उपलब्ध हैं. जोधपुर संभाग को अगर टेक्सटाइल पार्क मिलता है तो इसका फायदा ना केवल जोधपुर बल्कि इससे सटे पाली जिले समेत बाड़मेर जिले के बालोतरा जसोल तक के आसपास के उद्यमियों को भी मिलेगा. इससे यहां पहले से ही स्थापित टेक्सटाइल उद्योग को ना केवल संजीवनी मिलेगी, बल्कि रोजगार(Employment) के नये अवसर भी बढ़ेंगे.

क्यों हैं जोधपुर का दावा मजबूत

1. टेक्सटाइल पार्क के लिए कुल 1000 एकड़ भूमि की आवश्यकता है. जोधपुर और पाली के बीच काफी भूमि उपलब्ध है.
2. यहां कांकानी औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित होने वाला है. इसके पास यदि यह पार्क स्थापित होता है तो इससे जोधपुर, पाली और बालोतरा के उद्यमियों को इसका फायदा मिल सकता है.

3. यही नहीं जोधपुर में भूजल स्तर ऊपर होने से यहां पानी भी पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है. यहां उपलब्ध पानी का टीडीएस बहुत कम है. टीडीएस कम होने से कपड़े की प्रोसेसिंग करते समय केमिकल का उपयोग कम करना पड़ता है. इससे कपड़े की गुणवत्ता बनी रहती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज