अपना शहर चुनें

States

CM गहलोत के गृहनगर जोधपुर का होगा कायाकल्प, 3 साल में 3000 करोड़ खर्च कर दिलाई जाएगी हेरिटेज सिटी की पहचान

जोधपुर को हेरिटेज शहर की पहचान दिलाने की तैयारी है.
जोधपुर को हेरिटेज शहर की पहचान दिलाने की तैयारी है.

गहलोत सरकार (Gehlot Government) जोधपुर (Jodhpur) को हेरिटेज शहर के रूप में पहचान दिलाना चाहती है. इसके लिए तैयारी की जा रही है. इसी सिलसिले में नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल पिछले दो दिनों से जोधपुर दौरे पर थे.

  • Share this:
जोधपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के गृहनगर जोधपुर (Jodhpur) में विकास परियोजनाओं को गति देने के लिए नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) ने बड़ा ऐलान किया है. दो दिनों तक जोधपुर शहर का जायजा लेने के बाद धारीवाल ने आने वाले 3 सालों में जोधपुर को स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करने की घोषणा की. उन्होंने कहा आने वाले मार्च तक जोधपुर शहर में 13 सौ करोड़ रुपये के विकासकार्यों की शुरुआत कर दी जाएगी. आने वाले 3 सालों में जोधपुर में 3000 करोड़ के विकास कार्यों को पूरा कर शहर की सभी समस्याओं को दूर किया जाएगा.

दरअसल सरकार जोधपुर को हेरिटेज शहर के रूप में पहचान दिलाना चाहती है. इसके लिए तैयारी की जा रही है. इसी सिलसिले में नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल पिछले दो दिनों से जोधपुर दौरे पर थे. इस दौरान अधिकारियों से मंथन के बाद मंत्री शांति धारीवाल ने आने वाले 3 सालों में जोधपुर के कायाकल्प की घोषणा की.

जल्द शुरू होंगे विकासकार्य



शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने को लेकर दो पार्किंग बिल्डिंग का होगा निर्माण
शहर की हार्टलाइन पर एलिवेटेड रोड की जगह वैकल्पिक व्यवस्था का प्लान

दो प्रमुख नालों का निर्माण किया जाएगा, जिससे बारिस में जलभराव की समस्या से निजात मिल सके.

मंडोर व उम्मेद उद्यान के सौंदर्यीकरण की योजना.

कायलाना झील पर घाटों का निर्माणकर पर्यटन केंद्र के रूप विकसित करने का प्लान

फिलहाल इन कार्यों के लिए 1300 करोड़ रुपए खर्च होंगे. आगे 3 सालों में तीन हजार करोड़ रुपए खर्च कर शहर को विकसित सिटी बनाने का प्रयास किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज