अजब पुलिस की गजब कहानी, जोधपुर में थानाधिकारी रुपए देते हुए गिरफ्तार, पढ़ें क्या है पूरा मामला

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने शुक्रवार को जोधपुर में रातनाड़ा थानाप्रभारी को भ्रष्टाचार के एक मामले में गिरफ्तार किया है. यहां ब्यूरो की कार्रवाई कुछ अलग तरह से हुई है. ब्यूरो ने थानाधिकारी को रुपए लेते हुए नहीं, बल्कि देते हुए गिरफ्तार किया है.

Lalit Singh | News18 Rajasthan
Updated: June 21, 2019, 10:29 PM IST
अजब पुलिस की गजब कहानी, जोधपुर में थानाधिकारी रुपए देते हुए गिरफ्तार, पढ़ें क्या है पूरा मामला
एसीबी की गिरफ्त में रातनाड़ा SHO कुर्सी पर बैठे हुए। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Lalit Singh | News18 Rajasthan
Updated: June 21, 2019, 10:29 PM IST
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने शुक्रवार को जोधपुर में रातनाड़ा थानाप्रभारी भूपेन्द्र सिंह को भ्रष्टाचार के एक मामले में गिरफ्तार किया है. यहां ब्यूरो की कार्रवाई कुछ अलग तरह से हुई है. ब्यूरो ने थानाधिकारी को रुपए लेते हुए नहीं, बल्कि परिवादी को देते हुए गिरफ्तार किया है. थानाधिकारी ने कुछ दिन पूर्व एक कार्रवाई के दौरान परिवादी के घर से चार लाख रुपए बरामद किए थे. उसने रुपयों की बरामदगी को रिकॉर्ड पर नहीं लिया और आज उनमें से एक लाख रुपए परिवादी को वापस देते हुए पकड़ा गया.

रुपए जब्त किए, लेकिन रिकॉर्ड पर नहीं लिए
जानकारी के अनुसार जोधपुर शहर में कुछ दिन पूर्व कोचिंग संस्थान में पढ़ाने वाले विक्रम सिंह राठौड़ को रातनाड़ा पुलिस ने फर्जीवाड़े के आरोप में पकड़ा था. जांच के दौरान उसके पास से चार लाख रुपए भी बरामद किए गए थे. रातनाडा थानाधिकारी भूपेन्द्र सिंह ने पुलिस कार्रवाई में इन चार लाख रुपयों को रिकॉर्ड में नहीं दिखाया. इस बीच विक्रम सिंह राठौड़ जमानत मिलने के बाद थानाप्रभारी से भूपेंद्र सिंह से जब्त किए गए रुपए मांगने गया. थानाप्रभारी भूपेन्द्र सिंह रुपए देने में आनाकानी करने लगा. लेकिन बाद में भूपेंद्र सिंह ने दो लाख रुपए काटकर विक्रम सिंह को दो लाख ही वापस देने की हामी भर दी.

एक लाख रुपए वापस देते हुए किया गिरफ्तार

इस पर विक्रम सिंह राठौड़ ने एसीबी में थानाधिकारी के खिलाफ इसकी शिकायत दर्ज करवाई. आरोपी की शिकायत पर ब्यूरो ने उसका सत्यापन कराया. सत्यापन में शिकायत सही पाए जाने पर ब्यूरो ने शुक्रवार को कार्रवाई को अंजाम दिया. ब्यूरो की टीम ने रातनाडा थाने में थानाप्रभारी भूपेन्द्र सिंह को उसके ही चैम्बर में परिवादी को एक लाख रुपए वापस देते हुए गिरफ्तार कर लिया.

रुपयों की बरामदगी सीसीटीवी कैमरे में हो गई थी कैद
इस पूरे केस में चौंकाने वाली बात यह रही कि पुलिस ने जब आरोपी से रुपए जब्त किए थे, तब वहां सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ था. सीसीटीवी फुटेज में थानाप्रभारी और मामले का जांच अधिकारी गणपत दोनों रुपए लेते हुए दिखाई दे रहे हैं. शुक्रवार को जब एसीबी ने थानाप्रभारी को पकड़ा तो गणपत थाने से फरार हो गया.
Loading...

डेढ़ महीने में दूसरा मामला
जोधपुर कमिश्नरेट में डेढ़ महीने में थानाधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार का यह दूसरा मामला सामने आया है. इससे पहले बासनी थानाधिकारी संजय बोथरा पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लग चुके हैं. वह अवैध बजरी प्रकरण में फरार है और अभी तक एसीबी उसकी तलाश कर रही है.

चित्तौड़गढ़ में पत्नी की हत्या कर पति पहुंचा थाने

कोटा में अधिकारी के लिए 50 हजार की रिश्वत लेते दलाल को पकड़ा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जोधपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 9:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...