जोधपुर लोकसभा सीट पर लगी है सीएम, संघ और केन्द्रीय मंत्री की प्रतिष्ठा दांव पर

मारवाड़ की सबसे अहम जोधपुर लोकसभा सीट इस बार बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बनी है. बीजेपी इस सीट को बचाए रखने का दावा कर रही है तो कांग्रेस इसे पाने के लिए की गई हर मुमकीन कोशिश कामयाब रहने की उम्मीद लगाए है.

Sandeep Rathore | News18 Rajasthan
Updated: May 16, 2019, 8:23 PM IST
जोधपुर लोकसभा सीट पर लगी है सीएम, संघ और केन्द्रीय मंत्री की प्रतिष्ठा दांव पर
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Sandeep Rathore
Sandeep Rathore | News18 Rajasthan
Updated: May 16, 2019, 8:23 PM IST
मारवाड़ की सबसे अहम जोधपुर लोकसभा सीट इस बार बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गई. प्रदेश की सर्वाधिक हॉट सीट के रूप में चर्चित इस सीट पर बीजेपी से जहां संघ लॉबी के चहेते और मोदी कैबिनेट के सदस्य जोधपुर के मौजूदा सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत चुनाव मैदान उतारा. शेखावत के  सामने कांग्रेस पार्टी से सूबे के सीएम अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत ने चुनाव लड़ा. 29 अप्रैल को यहां मतदान हो चुका है और नतीजे 23 मई को सामने आने हैं. बीजेपी इस सीट को बचाए रखने का दावा कर रही है तो कांग्रेस इसे पाने के लिए की गई हर मुमकीन कोशिश कामयाब रहने की उम्मीद लगाए है.

नागौर लोकसभा क्षेत्र- यहां नैया पार लगाने के लिए बीजेपी ने हनुमान को बनाया है खेवैया



जोधपुर सीट पर कभी किसी एक पार्टी का एकाधिकार नहीं रहा. यहां कांग्रेस व बीजेपी के साथ ही निर्दलीय और बीएलडी भी अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुकी है. जोधपुर प्रदेश के सीएम अशोक गहलोत का गृहक्षेत्र होने के कारण यहां उनकी जड़ें काफी गहरी हैं. गहलोत खुद यहां से पांच बार सांसद रह चुके हैं. केन्द्र की राजनीति में रहने के बाद जब गहलोत प्रदेश की राजनीति में सक्रिय हुए तो उन्होंने जोधपुर शहर के सरदारपुरा विधानसभा क्षेत्र को चुना.

सीएम अशोक गहलोत। फाइल फोटो।


सीएम ने जमकर बहाया है पसीना
गहलोत 1999 से लेकर वे अब तक पांच बार सरदारपुरा से विधायक चुने गए हैं. अब कांग्रेस ने जोधपुर सीट को बीजेपी से छीनने का जिम्मा सीएम गहलोत को देते हुए यहां से उनके पुत्र वैभव गहलोत पर दांव लगाया हैं. वैभव लंबे समय तक पार्टी संगठन में काम करने के बाद अब पहली बार चुनाव मैदान में उतर रहे हैं. सीएम गहलोत ने भी जोधपुर सीट फतह करने के लिए जमकर पसीना बहाया है.

चूरू लोकसभा क्षेत्र- यहां मुद्दों पर नहीं जाति और पार्टी पर लगता है ठप्पा, मुकाबला कड़ाइस बार 68.41 फीसदी मतदान हुआ
19,51,393 मतदाताओं वाले इस क्षेत्र में जोधपुर, सरदारपुरा, सूरसागर, लोहावट, फलौदी, शेरगढ़, लूणी और पोकरण विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं. राजपूत बाहुल्य इस सीट पर करीब 3,75000 राजपूत, 2,75000 विश्नोई, 2,50000 अनुसूचित जाति-जनजाति, 1,50000 जाट और 1,20000 माली समाज के मतदाता हैं. क्षेत्र में इस बार 68.41 फीसदी मतदान हुआ है.

गजेन्द्र सिंह शेखावत। फाइल फोटो।


शेखावात का भी है बड़ा नेटवर्क
गजेन्द्र सिंह शेखावत मूलरूप से शेखावाटी के सीकर जिले से हैं. लेकिन उन्होंने अपनी पढ़ाई-लिखाई यहीं पर की. शेखावत जोधपुर विश्वविद्यालय के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. गजेंद्र सिंह छात्र राजनीति से ही संघ परिवार से जुड़े रहे हैं और उन्हें संघ का खास माना जाता रहा है. सिंह ने छात्र जीवन के बाद समाजसेवा को अपनाया. वे लंबे समय तक स्वदेशी जागरण मंच व सीमा जन कल्याण समिति के कार्य से जुड़े रहे हैं. उनका खुद का एक बड़ा नेटवर्क है.

वैभव गहलोत। फाइल फोटो।


मोदी-शाह दोनों आए प्रचार के लिए
इस सीट को बचाए रखने के लिए पीएम मोदी और अमित शाह दोनों यहां प्रचार के लिए आ चुके हैं. पीएम मोदी ने जहां जोधपुर शहर में चुनावी सभा की तो पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने रोड शो किया. दूसरी तरफ सीएम अशोक गहलोत ने भी जोधपुर शहर समेत पूरे क्षेत्र में जमकर मेहनत की है. इतनी जद्दोजहद के अब देखना यह कि मतदाता किस पर विश्वास जताता है.

लोकसभा क्षेत्र बीकानेर- रिश्तों के 'भंवर' में फंसी है सीट, दो अधिकारियों के बीच मुकाबला

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार