Home /News /rajasthan /

यहां 35 साल से सम्मान को तरस रही है गांधी की प्रतिमा

यहां 35 साल से सम्मान को तरस रही है गांधी की प्रतिमा

राजस्थान का एक गांव ऐसा भी है जहां गांधी की प्रतिका पिछले 35 सालों से सम्मान को तरस रही है.

राजस्थान का एक गांव ऐसा भी है जहां गांधी की प्रतिका पिछले 35 सालों से सम्मान को तरस रही है.

राजस्थान का एक गांव ऐसा भी है जहां गांधी की प्रतिका पिछले 35 सालों से सम्मान को तरस रही है.

    आज पूरी दुनिया में राष्ट्रपति महात्मा गांधी की 148वीं जयंती मनाई जा रही है लेकिन राजस्थान का एक गांव ऐसा भी है जहां गांधी की प्रतिका पिछले 35 सालों से सम्मान को तरस रही है.

    मामला जोधपुर के भोपालगढ़ कस्बे का है. यहां गांधी की प्रतिमा पुलिस थाने के मालखाने में कैद पड़ी. दरअसल, करीब 35 वर्ष पहले कस्बे के कुछ समाजसेवियों नेराष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा लगाने के लिए चंदा एकत्रित किया था. प्रतिमा लगाने के लिए यहां सब्जी मंडी के पास स्थित जैन रत्न विद्यालय के मुख्य द्वार के ठीक सामने एक स्मारक बनवाया था और इस पर बापू की प्रतिमा भी मंगवा कर स्थापित कर दी थी लेकिन तभी अनावरण नहीं हो पाया.

    अनावरण के इंतजार के बाद हटाई गई प्रतिमा

    प्रतिमा के अनावरण के लिए बुलाए गए अतिथियों के किसी कारणवश नहीं आ पाने के कारण प्रतिमा अनावरण का कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था. जिसके बाद कई दिनों तक प्रतिमा अनावरण का यह कार्यक्रम पुनः नहीं बन पाया. प्रतिमा लंबे समय तक स्मारक पर पड़ी रही. इस दौरान कोई असमाजिक तत्व प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ नहीं कर दे, इस लिहाज से जैन विद्यालय के शिक्षकों ने स्मारक पर कपड़े में ढकी बापू की प्रतिमा को विद्यालय के हॉल में रखवा दिया गया.

    25 सालों तक स्कूल में पड़ रही... फिर कबाड़ में

    करीब 25 साल तक बापू की यह प्रतिमा इसी जैन विद्यालय के हॉल में पड़ी रही. इसके बाद किसी ने इस प्रतिमा को विद्यालय के हॉल से उठाकर कबाड़ में पटक दिया. जिसको लेकर जानकारी मिलने पर गांव के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और बापू की प्रतिमा की ऐसी दुर्दशा देखकर करीब 7-8 साल पहले गांव के लोग एकत्रित हुए और उन्होंने बापू की इस प्रतिमा को स्मारक पर लगाने की मांग फिर उठने लगी. लेकिन स्कूल प्रशासन ने प्रतिमा अपनी बताते हुए देने से इंकार कर दिया.

    बात बिगड़ी तो पुलिस ने अपने कब्जे में किया

    स्कूल प्रशासन और ग्रामीणों के बीच मामला उग्र रूप लेने लगा तो मौके पर पुलिस ने पहुंचकर स्थिति को संभाला. कस्बे में शांति व्यवस्था भंग नहीं हो इसके लिए दोनों पक्षों से समझाइश की. लेकिन दोनों पक्ष माने नहीं और आपस में बहुत आने लगे तो पुलिस ने प्रतिमा को अपने कब्जे में ले लिया और जब तक कोई ठोस निर्णय नहीं हो तब तक प्रतिमा को स्थानीय पुलिस थाने के मालखाने में रखवा दिया.

    अब मालखाने में धूल चाट रही प्रतिमा

    पिछले करीब सात आठ वर्षों से यह प्रतिमा पुलिस थाने के मालखाने में ही रखी हुई पड़ी है. इसके बाद न तो किसी नेता ने और ना ही ग्राम पंचायत अथवा अधिकारियों ने बापू की इस प्रतिमा को मालखाने से मुक्त करवाने की पहल की. हालांकि ग्राम पंचायत ने एक बार गांधी प्रतिमा के स्मारक को जरुर तैयार करवाया लेकिन स्मारक पर प्रतिमा स्थापित करने के लिए कोई ठोस कदम आज तक नहीं उठाए.

    स्थानीय पुलिस थाने के मालखाने में गांधी जी की प्रतिमा पड़ी है और जब मैंने यह कार्य ग्रहण किया था तो इसके बारे में पता भी करवाया था. कुछ लोगों को भी प्रेरित कर इसे विधिवत स्थापित करने के प्रयास किए जाएंगे.
    राजीव भादू, थाना प्रभारी, भोपालगढ़

    Tags: Jodhpur News, Mahatma gandhi, Rajasthan news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर