Home /News /rajasthan /

Mahipal Maderna थे कानून के अच्छे जानकार, भंवरी देवी मर्डर केस के कारण आये सुर्खियों में

Mahipal Maderna थे कानून के अच्छे जानकार, भंवरी देवी मर्डर केस के कारण आये सुर्खियों में

महिपाल मदेरणा कई बार अंतरिम जमानत पर बाहर भी आये लेकिन जेल से उनका पीछा नहीं छूटा. गत माह उनकी जमानत हुई थी.

महिपाल मदेरणा कई बार अंतरिम जमानत पर बाहर भी आये लेकिन जेल से उनका पीछा नहीं छूटा. गत माह उनकी जमानत हुई थी.

Mahipal Maderna Biography: राजस्थान की राजनीति में तूफान लाने वाले जोधपुर के भंवरीदेवी मर्डर केस (Bhanwardevi Murder Case) आरोपी रहे पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा कानून के अच्छे जानकार थे. लेकिन वे एक बार काूनन के शिंकजे में फंसने के बाद करीब 10 साल तक जेल से बाहर नहीं आ सके थे.

अधिक पढ़ें ...

जोधपुर. राजस्थान की राजनीति में तूफान लाने वाले भंवरीदेवी अपहरण एवं मर्डर  केस (Bhanwardevi Murder Case) के मुख्य आरोपी पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा (Mahipal Maderna) कानून के बेहद अच्छे जानकार थे. जोधपुर के प्रतिष्ठित जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई करने वाले महिपाल मदेरणा को पढ़ने का बहुत शौक था. वे अक्सर बैठे-बैठे विभिन्न कानूनों को पढ़ते रहते थे. प्रशासनिक विधि पर उनकी खास पकड़ थी. इसके चलते वे किसी भी बड़े अधिकारी की गलतियों को उनके सामने ही दुरुस्त करने की क्षमता रखते थे. बताया जाता है कि इसके कारण कई बार अधिकारियों को उनके सामने जाने में भी डर लगता था.

मारवाड़ में कांग्रेस के बड़े आधार स्तंभ रहे परसराम मदेरणा के बेटे महिपाल मदेरणा का जन्म 5 मार्च 1952 को हुआ था. 69 वर्ष की आयु में आज सुबह जोधपुर में उनका निधन हो गया. वे लंबे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे. पहले महिपाल मदेरणा की पहचान पिता के नाम से होती थी. लेकिन वर्ष 2011 में राजस्थान की राजनीति में जलजला लाने वाले भंवरीदेवी अपहरण एवं मर्डर केस के बाद महिपाल मदेरणा राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में आ गये. भंवरी देवी मर्डर केस में 3 दिसंबर 2011 को महिपाल मदेरणा को सीबीआई ने गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद वे दस साल तक जोधपुर सेंट्रल जेल में रहे. इस दौरान मदेरणा कई बार अंतरिम जमानत पर बाहर भी आये लेकिन जेल से उनका पीछा नहीं छूटा. गत माह उनकी जमानत हुई थी.

क्या है भंवरी देवी मर्डर केस
जोधपुर जिले के बोरुंदा निवासी एएनम भंवरी देवी 1 सितंबर, 2011 को अचानक लापता हो गई थी. उसके बाद 20 सितंबर, 2011 को भंवरीदेवी के पति अमरचंद ने तत्कालीन गहलोत सरकार के जलदाय मंत्री महिपाल मदेरणा के खिलाफ अपहरण एवं हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था. इससे राजस्थान की राजनीति में भूचाल आ गया. मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई. सीबीआई ने अपनी जांच में माना की एएनएम भंवरीदेवी का अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई और उसके शव को जलाकर राख को नदी में बहा दिया गया.

दिसंबर 2011 में गिरफ्तार किये गये थे महिपाल मदेरणा
सीबीआई ने जांच पड़ताल के करीब ढाई माह बाद 3 दिसंबर 2011 को महिपाल मदेरणा को गिरफ्तार कर लिया था. उसके बाद में मामले की जैसे-जैसे परतें खुलती गई वैसे वैसे कई किरदार इसमें सामने आते रहे. सीबीआई ने इस मामले में डेढ़ दर्जन से ज्यादा आरोपियों को गिरफ्तार किया था. इसमें तत्कालीन विधायक मलखान विश्ननाई और उनकी बहन इन्द्रा विश्नोई भी शामिल थी. गत माह सभी आरोपी जेल से जमानत पर बाहर आ चुके हैं.

Tags: Congress leader, Rajasthan Congress, Rajasthan latest news, Rajasthan Politics

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर