जोधपुर मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल में MBBS के छात्र ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा- सॉरी मम्मी-पापा

जोधपुर में एमबीबीएस के छात्र ने फांसी लगाकर खुदकुशी की.

जोधपुर में एमबीबीएस के छात्र ने फांसी लगाकर खुदकुशी की.

MBBS Student Suicide Case: जोधपुर के एसएन मेडिकल कॉलेज के MBBS फाइनल ईयर के छात्र ने हॉस्टल में अपने कमरे में फांसी लगा ली. छात्र के कमरे से एक पन्ने का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने पापा-मम्मी को सॉरी लिखा है. कहा- स्ट्रगल और स्ट्रेस से थक गया हूं, आगे जिंदगी नही जी सकता.

  • Last Updated: February 28, 2021, 7:48 AM IST
  • Share this:
जोधपुर. जोधपुर के एसएन मेडिकल कॉलेज स्थित यूजी हॉस्टल में एमबीबीएस में फाइनल ईयर छात्र ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. उसने हॉस्टल के अपने कमरे में रस्सी से फांसी लगाई. मरने से पहले छात्र गिनाराम देवासी ने सुसाइड नोट में लिखा कि वो स्ट्रगल और स्ट्रेस से थक गया है. यह लिखकर छात्र पंखे से फांसी लगा ली. पुलिस को मिले सुसाइड नोट में लिखा था- 'पापा मम्मी सॉरी, चाचू सॉरी, जिंदगी में स्ट्रगल व स्ट्रेस से थक गया हूं, अब आगे जिंदगी नही जी सकता.'

डॉ एसएन मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस फाइनल ईयर के स्टूडेंट गिनाराम देवासी ने मानसिक तनाव में देर रात को हॉस्टल में कमरे में खुदकुशी कर ली. एमडीएम हॉस्पिटल (MDM Hospital) स्थित यूजी हॉस्टल में स्टूडेंट ने पंखे से लटक गया. जानकारी के मुताबिक, शनिवार को रात करीब साढ़े 8 बजे साथ में पढ़ने वाले स्टूडेंट ने फाइनल ईयर स्टूडेंट गिनाराम देवासी को खाना खाने के लिए चलने को लेकर रुम पर आवाज लगाई, लेकिन उसने कोई जवाब नही दिया. इस पर छात्र ने दूसरे छात्रों को बताया. कई छात्र वहां पर आए और उसे आवाज दी, लेकिन जब कोई जवाब नहीं आया तो छात्रों ने कमरे का दरवाजा तोड़ दिया. अंदर देखा कि गिनाराम पंखे पर लटका हुआ है.

उसके बाद छात्रों ने मेडिकल कॉलेज प्रसासन व पुलिस को गिनाराम के आत्महत्या की सूचना दी. इस बीच मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य व सीनियर डॉक्टर भी हॉस्टल पहुंच गए. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ जीएल मीणा ने बताया कि फाइनल ईयर के स्टूडेंट गिनाराम ने अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. इसके कारणों की जांच की जा रही है.

यूजी हॉस्टल नंबर 2 के तीसरी मंजिल पर कमरा नम्बर 326 में गिनाराम देवासी रहता था. जालौर में रहने वाला गिनाराम देवासी के कमरे से एक पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने अपने माता-पिता से सॉरी कहा है. उसने लिखा है कि पापा व मम्मी  सॉरी, चाचू सॉरी, जिंदगी में स्ट्रगल व स्ट्रेस से थक गया हूं. आत्महत्या की घटना के बाद शास्त्रीनगर पुलिस मौके पर पहुंची. उन्होंने शव को नीचे उतारकर मोर्चरी में रखवा दिया है. थाना अधिकारी ने बताया कि मेडिकल स्टूडेंट ने आत्महत्या की है. आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है.
बता दें कि डॉ एसएन मेडिकल कॉलेज में किसी स्टूडेंट के सुसाइड का यह पहला मामला है. पुलिस छात्र द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट के आधार पर पूछताछ कर रही है. जांच के बाद ही पता चलेगा कि आत्महत्या के पीछे कोई कारण क्या हैं?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज