जोधपुर को जलशक्ति मंत्री ने दी 120 बेड केआइसोलेशन सेंटर की सौगात, कोरोना मरीजों को मिलेगा लाभ

जोधपुर में 120 बेड का आइसोलेशन सेंटर तैयार, आधुनिक सुविधाओं से होगा लैस.

जोधपुर में 120 बेड का आइसोलेशन सेंटर तैयार, आधुनिक सुविधाओं से होगा लैस.

जोधपुर में बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने 120 बेड का आइसोलेशन सेंटर शुरू करने की पहल की है. भारत सरकार के उपक्रम राष्ट्रीय कौशल प्रशिक्षण संस्थान, सरस डेयरी के पास यह आइसोलेशन सेंटर शुरू किया जा रहा है.

  • Share this:
जोधपुर. राजस्थान ( Rajasthan) के जोधपुर ( Jodhpur) में बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ( Gajendra Singh Shekhawat ) ने 120 बेड का आइसोलेशन सेंटर शुरू करने की पहल की है. भारत सरकार के उपक्रम राष्ट्रीय कौशल प्रशिक्षण संस्थान, सरस डेयरी के पास यह आइसोलेशन सेंटर शुरू किया जा रहा है. रविवार सुबह शेखावत ने महापौर वनिता सेठ, एम्स और डीआरडीओ की टीम के साथ सेंटर का अवलोकन किया. उन्होंने बताया कि आइसोलेशन सेंटर में बेड और ऑक्सीजन समेत दूसरी चिकित्सकीय सुविधाएं उपल्ब्ध कराने का काम चल रहा है.

शेखावत ने कहा कि जोधपुर में भी परिस्थितियां चिंताजनक हैं. हम सबने मिलकर प्रयास किया है कि एम्स, जो लगभग 400 मरीजों को सेवाएं दे रहा है, उसके एडिशनल विंडो के रूप में हम एक और फैसिलिटी बनाने का प्रयास कर रहे हैं. जहां सौ-सवा सौ मरीज, जिन्हें मॉडरेट लेवल पर चिकित्सा की आवश्यकता है, उनको रखा जा सके. ताकि मुख्य एम्स पर दबाव कम हो. वहां गंभीर और अतिगंभीर रोगियों को चिकित्सीय सहायता दे सकें.

ऑक्सीजन आपूर्ति निर्बाध करने की कोशिश

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार सभी राज्यों को सहयोग करते हुए कोरोना की चुनौती से उभारने के प्रयास कर रही है. रेल, सडक़ और हवा, इन तीनों माध्यम से ऑक्सीजन की आपूर्ति को निर्बाध करने का प्रयास किया जा रहा है. राज्यों में मरीजों की संख्या के अनुसार उन्हें ऑक्सीजन आवंटित किया जा रहा है और इसकी रोजाना समीक्षा की जा रही है. उन्होंने कहा कि मरीजों की घटती-बढ़ती संख्या के आधार पर ऑक्सीजन दिया जा रहा है.
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोरोना के विस्तार को रोकने के लिए समाज के सहयोग की सबसे बड़ी आवश्यकता है. समाज के सभी लोग मिलकर कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें. यह आज की तारीख में सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम संसाधनों को बढ़ाते जाएंगे और बीमारी भी यदि उसी गति से बढ़ती रही तो निश्चित रूप से हमारे सामने चुनौती पैदा हो सकती है. उन्होंने पूरे विश्वास के साथ कहा कि कोरोना के खिलाफ युद्ध में हम सब लोग जुटेंगे तो निश्चित ही देश जीतेगा और कोरोना हारेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज