नाबालिग को ढूंढने के नाम पर अधिकारी कर रहे सैर, लगी फटकार

मामले की सुनवाई के बाद अदालत से बाहर निकलते पुलिस अधिकारी व वकील
फोटो-ईटीवी
मामले की सुनवाई के बाद अदालत से बाहर निकलते पुलिस अधिकारी व वकील फोटो-ईटीवी

पिछले साल गुम हुई एक नाबालिग लड़की को ढूंढने के नाम पर पुलिस अधिकारियों पर सैर सपाटा करने का आरोप लगा है. राजस्थान हाईकोर्ट ने इस पर कड़ी फटकार लगाई है.

  • Share this:
राजस्थान हाईकोर्ट ने मारवाड़ जंक्शन से मई 2017 में गुम हुई एक नाबालिग लड़की को ढूंढने के नाम पर सैर सपाटा करने के मामले में पाली के पुलिस अधीक्षक को फटकार लगाई. जस्टिस संगीत लोढ़ा व जस्टिस वीके माथुर की खंडपीठ में पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव व आईओ पोलाराम बेनीवाल व्यक्तिगत रूप से पेश हुए. याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता ने आरोप लगया कि नाबालिग को ढूंढने गई टीम दमन व दीव में सैर सपाटे करने के फोटो फेसबुक पर वायरल कर रही है और ढूंढने के नाम पर केवल खानापूर्ति की जा रही है.

यह भी कहा गया कि हाईकोर्ट में गलत बयान दिए जा रहे हैं. अनुसंधान अधिकारी बदलने के निर्देश के बावजूद आईओ नहीं बदला और आरोपियों साथ समझौते के लिए दबाव बनाया जा रहा है. खंडपीठ में याचिकाकर्ता जमनी देवासी ने अधिवक्ता वीआर चैधरी के माध्यम से पेश होकर कहा कि पिछली सुनवाई पर एसपी साहब के सामने आईओ बदलने की स्वीकृति होने के बावजूद उसी आईओ पोलाराम से मामले की जांच कराई जा रही है.

इस पर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि आईओ बदल दिया है और मामले की जांच वृताधिकारी सोजत को दी जा रही है. हाईकोर्ट ने 15 फरवरी को अगली सुनवाई पर पूरी रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही याचिकाकर्ता के अधिवक्ता को भी शपथ-पत्र पेश कर सभी तथ्य बताने के निर्देश दिए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज