हाईकोर्ट में थानेदार ने दिया वकील को धक्का, कोर्ट ने किया तलब

आसाराम के मामले में सुनवाई के दौरान सीनियर अधिवक्ता सज्जन राज सुराणा के साथ धक्का-मुक्की के बाद ऐसा हुआ है.
आसाराम के मामले में सुनवाई के दौरान सीनियर अधिवक्ता सज्जन राज सुराणा के साथ धक्का-मुक्की के बाद ऐसा हुआ है.

आसाराम के मामले में सुनवाई के दौरान सीनियर अधिवक्ता सज्जन राज सुराणा के साथ धक्का-मुक्की के बाद ऐसा हुआ है.

  • Share this:
सीनियर अधिवक्ता को धक्का देने के मामले में सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट परिसर में अधिवक्ताओं के दो धड़े नजर आए. कुछ अधिवक्ता हड़ताल की मांग कर हाईकोर्ट कॉरिडोर में धरना देकर बैठ गए, तो वहीं एसोसिएशन ने हड़ताल को लेकर साफ इनकार कर दिया.

आसाराम के मामले में सुनवाई के दौरान सीनियर अधिवक्ता सज्जन राज सुराणा के साथ धक्का-मुक्की के बाद ऐसा हुआ है. हाईकोर्ट में सुनवाई करते हुए थाना अधिकारी मदन पालीवाल को कोर्ट में तलब किया था कोर्ट में थानाधिकारी मदन बेनीवाल ने कहा कि भीड़-भाड़ में मैं सीनियर अधिवक्ता को पहचान नहीं पाया. जिसके चलते मैंने उन्हें धक्का दे दिया.

इस पर हाईकोर्ट ने 3 दिन में लिखित स्पष्टीकरण मांगा है. इस दौरान थानाधिकारी पर कार्यवाही की मांग करते हुए कोरिडोर में ही कुछ अधिवक्ताओं ने धरना दे दिया. लेकिन अधिवक्ता ऐसासिएशन का कहना है कि सुबह से अधिवक्ता का काला रिबन बांधकर विरोध कर रहे हैं. जिसके चलते कोर्ट ने संज्ञान लेकर थाना अधिकारी को कोर्ट में तलब किया और अब स्पष्टीकरण मांगा है.



आसाराम केस की सुनवाई जेल से किए जाने की पुलिस की अपील पर भी कोर्ट ने अभी फैसला नहीं लिया है. कोर्ट ने कहा है कि आगे से आसाराम के समर्थक कोर्ट परिसर पहुंचेंगे तो इस पर विचार किया जाएगा.
कोर्ट ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि यदि अब कोर्ट परिसर में आसाराम के समर्थक आएंगे तो आसाराम की सुनवाई जेल से करने के आदेश दे दिए जाएंगे.
करुणानिधि व्यास, सचिव हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज