Home /News /rajasthan /

राम ने रावण दहन करने से किया इनकार, कहा- आज निराश लौट रहा हूं

राम ने रावण दहन करने से किया इनकार, कहा- आज निराश लौट रहा हूं

फोटो-(ईटीवी)

फोटो-(ईटीवी)

सिरोही शहर में नगर परिषद की ओर से आयोजित दशहरा उत्सव विवादों में पड़ गया. नगरपरिषद में भ्रष्टाचार व राजकार्य में बाधा के आरोपी को अतिथि बनाए जाने पर राम का वेश धर आए युवक ने बिना रावण को जलाए वापस लौट गया.

    सिरोही शहर में नगर परिषद की ओर से आयोजित दशहरा उत्सव विवादों में पड़ गया. नगरपरिषद में भ्रष्टाचार व राजकार्य में बाधा के आरोपी को अतिथि बनाए जाने पर राम का वेश धर आए युवक ने बिना रावण को जलाए वापस लौट गया.

    वहीं दूसरी ओर भाजपा पार्षदों ने भी दशहरा उत्सव को लेकर विरोध प्रदर्शन किया. सबसे बड़ी बता तो यह है कि नगरपरिषद के भाजपा को बोर्ड होने के बावजूद राज्यमंत्री ओटाराम देवासी व जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया का निमंत्रण पत्र में नाम नहीं लिया.

    अचानक हुए इस घटनाक्रम से वहां मौजूद जनप्रतिनिधियों और प्रशासन के सामने अटपटी स्थिति खड़ी हो गई. आनन-फानन में भीड़ में बैठे एक बच्चे को राम की वेशभूषा पहनाई गई और फिर उसने रावण का दहन किया. इससे पूर्व राम बनकर आए युवक ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर रावण का दहन करने से इनकार कर दिया.

    उसका कहना था कि मंच पर रावण बैठे हैं, जो विकास कार्यों में भ्रष्टाचार करते हैं. शहर में कितना विकास हुआ, कहां है यह तो बताएं. इसी तरह के आरोप लगाते हुए अंत में युवक ने कहा कि आज राम निराश होकर लौट रहा है और वह रावण का दहन नहीं करेगा. इसके बाद श्रीराम की पूरी सेना वापस लौट गई.

    इस पूरे घटनाक्रम के कारण कार्यक्रम देर से शुरू हो सका और रावण का दहन दूसरे बच्चे ने शाम साढ़े सात बजे किया. नगर परिषद की ओर से छपवाए गए आमंत्रण पत्र पर मुख्य अतिथि के तौर पर कलेक्टर संदेश नायक और अध्यक्ष के तौर पर एसपी ओमप्रकाश का नाम था, लेकिन दोनों ही कार्यक्रम में नहीं आए.

    वहीं दूसरी ओर दशहरा उत्सव के विवादित अतिथि सुरेश सगरवंशी विवाद का प्रतिउत्तर देते हुए कहा कि नगरपरिषद की ओर से गरबा मंडलों को मिलने वाली अनुदान राशि से संतुष्ठ नहीं होने पर विवाद रखा किया है. इस बार से शहर में गरबा को मुख्य आयोजन स्थल रामझरोखा मैदान में जगदम्बा गरबा मंडल से अनुदान राशि नहीं लेगा. नगरपरिषद के सभापति ताराराम माली ने भ्रष्टाचार के आरोपों को निराधार बताया.

    तय समयानुसार शाम छह बजे रावण दहन होना था. सभी लोग आ चुके थे. पूरा शहर एकत्रित था. जयघोष हो रहे थे. इसी बीच रामजी की शोभायात्रा पहुंची. लोगों ने जयकारे लगाए. कार्यक्रम शुरु हुआ. अतिथि मंच पर बैठे थे. इसी दौरान राम बने युवक ने रावण दहन से इनकार कर दिया.

    आनन-फानन में भीड़ में बैठे एक बच्चे को बुलाया गया. उसे श्रीराम की वेशभूषा पहनाई गई. इसी बच्चे ने आखिर में रावण का दहन किया, लेकिन इस विवाद ने जिले की राजनीति में एक नया मुद्दा खड़ा कर दिया है. लोगों में राजनेताओं के प्रति एक बार फिर नाराजगी सामने आई है.

    Tags: Sirohi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर