होम /न्यूज /राजस्थान /'भारत को पाकिस्तान बना देंगे' कहने वाले रशीद ने माफी नहीं मांगी, अदालत में बोला- मैं बेकसूर हूं

'भारत को पाकिस्तान बना देंगे' कहने वाले रशीद ने माफी नहीं मांगी, अदालत में बोला- मैं बेकसूर हूं

पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले रशीद अब्दुल की जमानत याचिका खारिज कर दी गई है.

पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले रशीद अब्दुल की जमानत याचिका खारिज कर दी गई है.

Jodhapur Rashid Abdul Case Update News: टी20 वर्ल्ड कप क्रिकेट में भारतीय टीम पर पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले मु ...अधिक पढ़ें

जोधपुर. क्रिकेट मैच में पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले राजस्थान के रशीद अब्दुल की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं. रशीद ने बीते 24 अक्टूबर को टी20 क्रिकेट वर्ल्ड कप (T20 Cricket World Cup) के मुकाबले में भारतीय टीम के खिलाफ पाकिस्तान की जीत पर खुशी मनाई थी. रशीद ने व्हाट्सएप स्टेटस पर खुशी का स्टेटस लगाया था. व्हाट्सएप चैट में भारत को पाकिस्तान बना देने का दावा जोधपुर के पीपाड़ के रहने वाले युवक रशीद अब्दुल ने किया था. जोधपुर जिला एवं सेशन न्यायालय के राजेंद्र काछवाल की कोर्ट ने युवक की इस टिप्पणी को गम्भीर माना है. कोर्ट ने रशीद की जमानत याचिका खारिज कर दी है. अपनी टिप्पणी पर आरोपी द्वारा कोई माफीनामा भी नहीं दिया गया है.

सोशल मीडिया पर पाक की जीत का जश्न मनाने का स्टेटस और एक युवक से बातचीत का स्क्रीनशॉट वायरल हुआ था . इसके बाद पीपाड़ में इस मामले को लेकर आक्रोश पैदा हो गया. महिंद्र टाक नामक युवक ने पीपाड़ पुलिस थाने में एक परिवाद दायर किया और पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार (Arrest) कर कोर्ट में पेश किया. जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया. सबसे पहले आरोपी की ओर से पीपाड़ के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष जमानत याचिका बीते बुधवार को पेश की गई, जिसे कोर्ट ने गम्भीर मामला मानते हुए खारिज कर दिया था. कोर्ट ने आरोपी अब्दुल रशीद की ओर से सोशल मीडिया पर टिप्पणी को बहुत गंभीर माना और जमानत देने से इंकार कर दिया. बता दें कि इसी तरह के एक मामले में उदयपुर की टीचर नफीसा अटारी ने कोर्ट में माफी मांग ली थी, जिसके बाद उसे जमानत दे दी गई.

शिकायतकर्ता को दी थी धमकी

इसके बाद आरोपी की ओर से जिला एवं सेशन जिला जज राजेंद्र काछवाल की कोर्ट में जमानत अर्जी विचाराधीन थी. बीते सोमवार को सुनवाई के दौरान परिवादी महेंद्र टाक के अधिवक्ता बुद्धाराम चौधरी ने कोर्ट को बताया कि देश विरोधी ऐसी टिप्पणी करने के बाद भी आरोपी में पश्चाताप नहीं है. बल्कि उसने परिवादी को देख लेने की धमकी दी है. ऐसे आरोपी को जमानत नहीं दी जानी चाहिए. अधिवक्ता की दलीलों को स्वीकार करते हुए कोर्ट ने आरोपी की टिप्पणी और उसके कृत्य को गंभीर मानते हुए जमानत देने से इनकार कर दिया. इस मामले में पुलिस ने दो युवकों के खिलाफ देश के खिलाफ अपमानजनक मैसेज भेजने का मामला दर्ज कर अब्दुल रशीद पुत्र गफार खान निवासी ईसाखों की ढाणी को गिरफ्तार किया था.

राजस्थान की ताजा खबरें देखें-Live

आरोपी ने कहा- मैं निर्दोष हूं

आरोपी ने वकील के माध्यम से कोर्ट में कहा कि मैं निर्दोष हूं. वकील ने कोर्ट में दलील दी कि रशीद निर्दोष है और इस मामले में उसे झूठा फंसाया गया है. जिस पर कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि पत्रावलियों को देखने से स्पष्ट हो जाता है कि आरोपी ने देश विरोधी व सौहार्द की भावनाएं भड़काने का प्रयास किया. इसके अलावा महेन्द्र टाक को धमकी भी दी. ऐसे में उसे जमानत नहीं दी जा सकती है. पुलिस ने दोनों युवकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 15 क व 153 ख के तहत मामला दर्ज किया है. बता दें कि देश आपसी शांति सौहार्द को खतरे में डालने के उद्देश्य से टिप्पणी, दृश्य श्रव्य सामग्री का उपयोग करने या सोशल मीडिया का उपयोग करने पर इस धारा के अनुसार तीन वर्ष के कारावास की सजा का प्रावधान है.

ये है मामला

बता दें कि जोधपुर के पीपाड़ शहर रशीद अब्दुल्ल ने टी 20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के हाथों से भारत की हार के मौके पर अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर इस जीत की खुशी का इजहार किया. उसके स्टेटस को टैग करके एक अन्य युवक ने पूछा… क्या हुआ खुशी क्यों मना रहे हो भारत हार गया इसलिए क्या? तो रशीद अब्दुल ने जो जवाब दिया वह चौंकाने वाला था उसने जवाब में लिखा ..हा…बहुत हैप्पी हूं….आज तो….सवाल पूछने वाले ने इसका जवाब दिया कि तो फिर यहां क्यों रहते हो…? पाकिस्तान क्यों नही चले जाते? जिस पर आरोपी ने जवाब दिया कि भारत को ही पाकिस्तान बना देंगे, देख लेना 2026 में नजारा देखने लायक होगा.

Tags: Icc T20 world cup, Jodhpur News, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें