Home /News /rajasthan /

करोड़ों की लागत से बनी मल्टीलेवल पार्किंग को है वाहनों का इंतजार

करोड़ों की लागत से बनी मल्टीलेवल पार्किंग को है वाहनों का इंतजार

खाली पड़ी मल्टीलेवल पार्किंग

खाली पड़ी मल्टीलेवल पार्किंग

जोधपुर नगर निगम ने इस आदेश की पालना में शहर के व्यस्ततम सरदारपुरा बाजार के गांधी मैदान व नई सड़क बाजार के सोजतीगेट सर्किल पर मल्टीलेवल पार्किंग का निर्माण करवाया. जिसमें से सरदारपुरा क्षेत्र में निर्मित पार्किंग का उद्घाटन आचार संहिता के बीच में करना पड़ा.

अधिक पढ़ें ...
जोधपुर शहर की सड़कों पर वाहन पार्किंग के चलते शहर की यातायात व्यवस्था चरमरा चुकी हैं. शहर के मुख्य बाजारों में जहां नज़र डाले बेतरतीबी से खड़े वाहन यातायात व्यवस्था का बंटाधार करते नज़र आते हैं. वाहनों की पार्किंग शहर की समस्याओं में से एक मुख्य समस्या है, जिसके समाधान के लिए नगर निगम ने सरदारपुरा के गांधी मैदान व सोजतीगेट चौराहे के समीप मल्टिलेवल पार्किंग का निर्माण करवाया है लेकिन हालत जस के तस बने हुए हैं.

शहर में सुगम यातायात उपलब्ध करवाने को लेकर दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए राजस्थान उच्च न्यायालय की खण्डपीठ ने शहर की सड़कों पर सुगम यातायात में बाधा उत्पन्न करते बेतरतीबी से खड़े वाहनों के लिए शहर के मुख्य भीड़ भाड़ वाले इलाकों में पार्किंग व्यवस्था उपलब्ध करवाने का आदेश नगर निगम ​को दिया. जोधपुर नगर निगम ने इस आदेश की पालना में शहर के व्यस्ततम सरदारपुरा बाजार के गांधी मैदान व नई सड़क बाजार के सोजतीगेट सर्किल पर मल्टीलेवल पार्किंग का निर्माण करवाया. जिसमें से सरदारपुरा क्षेत्र में निर्मित पार्किंग का उद्घाटन आचार संहिता के बीच में करना पड़ा.

इस पार्किंग का निर्माण करीब 22 करोड़ रूपए की लागत से किया गया. यहां 300 चौपाहिया वाहन और 500 दुपहिया वाहन खड़े करने ​की सुविधा उपलब्ध है. करीब 10 हजार स्क्वेयर मीटर क्षेत्र में बनी यह पार्किंग पूरी आधुनिक सुविधाओं से युक्त है. निगम ने इस पार्किंग में वाहन रखने का शुल्क भी बहुत कम रखा है. यहां चार घंटे के लिए दुपहिया वाहन रखने पर 10 रूपए लिए जा रहे हैं तो वहीं चार घंटे कार रखने के लिए 30 रूपए लिए जा रहे हैं. क्षेत्र में रहने वाले उन लोगों के लिए निगम ने एक विशेष व्यवस्था शुरू की जिनके घरों मे चौपहिया वाहन है लेकिन घर में पार्किंग नहीं हैं. इन लोगों के लिए पूरे महिने वाहन रखने का शुल्क मात्र 1500 रुपये रखा गया था. पार्किंग के उद्घाटन के साथ ही लगने लगा था कि अब सरदारपुरा क्षेत्र मे वाहनों की भीड़़ से आम नागरिेकों को निजात मिल जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

पार्किंग के मेंटिनेंस पर निगम हर माह करीब 6 लाख रूपए खर्च कर रहा है, लेकिन वर्तमान में निगम की पार्किंग द्वारा प्राप्त की जाने वाली आय का आंकड़ा सुनकर आप चौक जाएंगे. निगम की आय मात्र 30 हजार रूपए प्रतिमाह हो रही है.  हालांकि दीपावली के दिनों में पुलिस की सख्ती के चलेते यहां काफी भीड़ रहती थी, लेकिन वर्तमान में प्रतिदिन करीब 25 से 30 वाहन ही यहां पार्क किए जा रहे हैं

पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय व यातायात) ने 26 अक्टूबर को एक आदेश जारी कर सरदारपुरा बी व सी रोड और प्रथम, द्वितीय व तृतीय रोड सुबह दस से रात दस बजे तक चार पहिया वाहनों के लिए नो पार्किंग जोन घोषित किया था, जबकि हकीकत में घोषणा का कोई असर तक नहीं है. इन क्षेत्र में दिनभर चार पहिया वाहन सडक़ के बीचों-बीच खड़े नजर आते हैं. यातायात पुलिस के अधिकारी-जवान मूक दर्शक बने रहते हैं.

यह भी पढ़ें- नारियल फोड़ा और शुरू हो गया जोधपुर की मल्टी पार्किंग का उपयोग

यह भी पढ़ें-  पिंकसिटी में 400 कारों की पार्किंग को है उद्घाटन का इंतजार

Tags: Jodhpur News, Rajasthan news, Traffic Department

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर