होम /न्यूज /राजस्थान /Jodhpur में दुर्लभ बीमारी का सफल ऑपरेशन, जानें कैसे 2 साल से पेट दर्द के रोगी को मिली निजात

Jodhpur में दुर्लभ बीमारी का सफल ऑपरेशन, जानें कैसे 2 साल से पेट दर्द के रोगी को मिली निजात

जोधपुर के डॉक्टरों ने एक दुर्लभ बीमारी का सफल आपरेशन किया है, जिससे दो साल से पेट दर्द की समस्या झेल रहे व्यक्ति को निज ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- मुकुल परिहार

जोधपुर. धरती पर डॉक्टरों को भगवान का रूप ऐसे ही नहीं कहा जाता. देश में नए मेडिकल हब के रूप में अपना स्थान बना रहे जोधपुर के महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टर इस कथन को फिर चरितार्थ कर रहे हैं. महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टरों ने 2 साल से पेट दर्द के रोगी को पश्चिम राजस्थान की पहली इस जटिल सर्जरी कर दर्द से राहत दिलाई है. महात्मा गांधी अस्पताल के सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने लिवर में पथरी (हेपटोलिथीयसिस) नामक बीमारी का सफल ऑपरेशन किया है.

महात्मा गांधी अस्पताल के सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष एवं सीनियर प्रोफ़ेसर डॉक्टर एसएस राठौड़ का कहना है कि मरीज पिछले करीब 2 साल से पेट दर्द, पीलिया ओर बुखार से परेशान था. उसने विभिन्न प्राइवेट हॉस्पिटल में जांच करवाई. जिसमें लिवर में बड़ी पथरी की समस्या बताई गई. लेकिन ऑपरेशन के लिए सबने दिल्ली या अहमदाबाद जाने की सलाह दी. उसके बाद मरीज ने महात्मा गांधी अस्पताल के गेस्ट्रो सर्जन डॉ. दिनेश चौधरी से परामर्श लिया. उन्होंने ऑपरेशन की सलाह दी, सर्जरी के बाद रोगी को दर्द से राहत मिली है.

लीवर की पथरियों को ऐसे किया ऑपरेट
महात्मा गांधी चिकित्सालय के गेस्ट्रो सर्जन डॉक्टर दिनेश चौधरी का कहना है कि साधारणत: पथरी की समस्या पित की थेली या गुर्दे में होती है. यह पथरी कभी-कभी पित्त की नली में भी चली जाती है. लेकिन इस मरीज़ में लिवर के अंदर लिवर की नलियों में पथरी थी. उसमें बायीं नली में 2×3 cm, दाई नली में 4×3 cm, दोनो नलियों के जोड़ पर 2×3 cm और पित्त की नली में 2×2 cm की पथरी थी. उसके अलावा लिवर की छोटी नलियां छोटी-छोटी बहुत सारी पथरियों से भरी थी. यह बीमारी काफ़ी दुर्लभ है. आपरेशन के दौरान पित्त की नली को काटकर लिवर की पथरियों को निकला गया और उसके बाद भविष्य में ओर पथरी ना बने इसके लिये आँत से नया रास्ता बनाया गया. (हेपेटिको डोकोटोमी – हेपटो- लिथोटोमी roux-en-Y हेपेटिको-jejunostomy) यह पश्चिमी राजस्थान का पहला इस तरह का ऑपरेशन है.

6 घण्टे चली यह जटिल सर्जरी
इस जटिल सर्जरी को सफल करने की इस टीम में डॉक्टर दिनेश चोधरी, डॉ. प्रदीप और एनेस्थीसिया की ओर से डॉ. गायत्री और डॉ.भरत रहे. डॉक्टर्स ने बिना रुके यह जटिल ऑपरेशन 6 घण्टे में पूर्ण किया, ऑपरेशन के बाद मरीज़ पूरी तरह स्वस्थ है.

Tags: Jodhpur News, Latest Medical news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें