Jodhpur News: गुजरात में ताऊते तूफान से जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट कारोबारियों को 50 करोड़ का नुकसान

पीपाव पोर्ट को एक जून तक बंद कर दिया है, जिससे हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों को और नुकसान होने की आशंका है. (सांकेतिक फोटो)

पीपाव पोर्ट को एक जून तक बंद कर दिया है, जिससे हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों को और नुकसान होने की आशंका है. (सांकेतिक फोटो)

Taukte Cyclone Effect: जोधपुर हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर (Jodhpur Handicraft Industry) के करीब 300 कंटेनर गुजरात के पीपाव पोर्ट पर रखे हुए थे. ताऊते तूफान की वजह से पोर्ट पर भारी तबाही से व्यापारियों को हो सकता है नुकसान.

  • Share this:

जोधपुर. देश में ताऊ-ते तूफान ने भले ही जोधपुर जिले को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया हो, लेकिन इसने शहर के हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों (Handicraft Industrialists) का करोड़ों का नुकसान जरूर कर दिया है. गुजरात के पोर्ट पर ताऊ-ते तूफान ने भारी तबाही मचाई है, जिससे जोधपुर हैंडीक्राफ्ट के 300 कंटेनर अस्त-व्यस्त हो गए हैं. इस तूफान से दूसरी दिक्कत यह सामने आ रही है कि पोर्ट एक जून तक बंद होने से हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों के ऑर्डर केंसिल होने या डिलीवरी में देरी होने की आशंका है.

दरसअल, जोधपुर हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर के करीब 300 कंटेनर गुजरात के पीपाव पोर्ट पर रखे हुए थे. इस बीच ताऊ-ते तूफान ने पीपाव पोर्ट पर भारी तबाही मचाई, जिससे जोधपुर हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर के 300 कंटेनर में रखा सामान अस्त-व्यस्त हो गया. इससे हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों को करोड़ो का नुकसान पहुंचा है.

एक जून तक पोर्ट बंद होने से ऑर्डर कैंसिल होने का खतरा

पीपाव पोर्ट को एक जून तक बंद कर दिया है, जिससे हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों को और नुकसान होने की आशंका है. एक जून तक हैंडीक्राफ्ट के कंटेनर रवाना नहीं होने पर हैंडीक्राफ्ट उद्योगपतियों के ऑर्डर केंसिल होने की आशंका बन गई है. एक्सपोर्टर बताते हैं कि कंटेनर रवाना होने में देरी होने से या तो ऑर्डर केंसिल हो सकता है या डिलीवरी में देरी होने तय है. 2500 फैक्ट्री से 500 प्रोडक्ट्स होते हैं.
जोधपुर शहर हैंडीक्राफ्ट उद्योग का देश का बड़ा हब है. यहां से 2500 हैंडीक्राफ्ट फैक्ट्रियों से 500 प्रोडक्ट विदेशों में एक्सपोर्ट होते हैं. जोधपुर हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर के अध्यक्ष भरत दिनेश ने बताया कि गुजरात के पोर्ट पर जोधपुर एक्सपोर्टर के 300 कंटेनर खड़े हैं. जिनमें कितना नुकसान हुआ है यह भी जानकारी नहीं मिल पा रही है. वहींं, दूरसंचार व्यवस्था ठप होने से किसी से सम्पर्क भी नही हो पा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज