होम /न्यूज /राजस्थान /healthy lifestyle: 80 की उम्र में 18 का जुनून, साइकिल से की है करौली से जयपुर तक की यात्रा

healthy lifestyle: 80 की उम्र में 18 का जुनून, साइकिल से की है करौली से जयपुर तक की यात्रा

Yoga Teacher: करौली के रहनेवाले रमेश तिवारी बताते हैं कि तैरना उनके जीवन का लक्ष्य रहा है. योग को उन्होंने जीवन की सारी ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : मोहित शर्मा

करौली. शिक्षा, योग और स्वास्थ्य रक्षा के पर्याय माने जाने वाले रमेश तिवारी करौली में जन्मे एक ऐसे शख्स हैं, जिन्हें लोग विभिन्न विषयों के साथ स्वास्थ्य चेतना पैदा करने वाले शिक्षक के रूप से जानते हैं. वे शानदार बांसुरी वादक तो हैं ही, कुशल तैराक भी हैं. इन सबसे इतर वे योग प्रशिक्षक का दायित्व भी बखूबी निभा रहे हैं.

तिवारी जी बताते हैं कि तैरना उनके जीवन का लक्ष्य रहा है. योग को उन्होंने जीवन की सारी समस्याओं का समाधान बताया . वे आज भी हर जगह साइकिल से ही आना-जाना करते हैं. 80 वर्ष की उम्र में भी साइकिलिंग उन पर इतना हावी है कि उन्होंने करौली से जयपुर तक का सफर साइकिल से तय कर दिया और आज भी तिवारी जी का हौसला युवाओं से भी बढ़कर है

करौली जिले के सेवानिवृत्त हिंदी के व्याख्याता रमेश तिवारी शहर के चटीकना मोहल्ले के रहनेवाले हैं. जिले के प्राचीन और रमणीय स्थल रणगमां ताल को उन्होंने 1 तरीके से गोद ले रखा है, जिसकी 60 वर्षों से देखरेख कर रहे हैं. 80 वर्ष की उम्र में भी वे तड़के 3:00 बजे उठ जाते हैं और साइकिल से रोज ताल पर जाते हैं. वहां नियमित रूप से योग करते हैं और डेढ़ घंटे तक तैराकी करना उनकी दैनिक दिनचर्या है.

तिवारी जी तैराकी में इतने माहिर हैं कि जिस ताल को अच्छे-अच्छे गोताखोर पार नहीं कर सकते, उसे 80 वर्ष की उम्र में भी हर रोज 3 बार पार करते हैं. वर्षा, ओले, सर्दी और तूफान जैसी स्थिति में भी वे ताल जाने से नहीं रुकते. इसी ताल में हजारों लोगों को उन्होंने तैरना सिखाया है और डूबते हुए कई लोगों की जान भी बचा चुके हैं.

Tags: Benefits of yoga, Karauli news, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें