लाइव टीवी

नरभक्षी बाघ को वन विभाग ने ट्रेंकुलाइज कर भेजा रणथम्भौर, 2 की ली थी जान
Karauli News in Hindi

News18 Rajasthan
Updated: September 19, 2019, 4:33 PM IST
नरभक्षी बाघ को वन विभाग ने ट्रेंकुलाइज कर भेजा रणथम्भौर, 2 की ली थी जान
करौली और सवाईमाधोपुर वन विभाग की संयुक्त टीम ने टाइगर टी-104 पर पाया काबू.

टाइगर टी-104 पर काबू पाने के लिए करौली और सवाईमाधोपुर वन विभाग की संयुक्त टीम को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. बाघ को सवाई माधोपुर के रणथम्भौर नेशनल पार्क ले जाया गया.

  • Share this:
करौली. वन विभाग ने करौली (Karauli) जिले के चैनपुरा गांव में टाइगर टी-104 को ट्रेंकुलाइज कर उसे पिंजरे में कैद कर लिया. इस बाघ पर काबू पाने के लिए करौली और सवाईमाधोपुर (Sawai Madhopur) वन विभाग (Forest Department) की संयुक्त टीम को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. बाघ को सवाई माधोपुर के रणथम्भौर नेशनल पार्क (Ranthambore Tiger Reserve) ले जाया गया. उप वन संरक्षक श्रवण कुमार रेड्डी ने बताया कि टाइगर को गोराहार के पास ट्रेंकुलाइज किया गया. वन विभाग की कार्रवाई के बाद गांव वालों ने राहत की सांस ली.






गौरतलब है कि इस बाघ ने गत 12 सितम्बर को एक 30 वर्षीय युवक पिंटू को अपना निवाला बनाया था. युवक सिमिर बाग गांव में अपने घर के आंगन में चारपाई पर सोया हुआ था. इसी दौरान बाघ ने उसपर हमला बोल दिया और उसे घसीटकर नजदीक के खेत में ले गया था. बाघ के हमले से घायल युवक की मौके पर ही मौत हो गई थी. इस घटना के बाद से ही वन विभाग की टीम टाइगर टी-104 को ढूंढ़ रही थी.



11 अगस्त को भी किया गया था ट्रेंकुलाइज

इससे पहले 30 जुलाई को इसी टाइगर ने करौली से नजदीक दुर्गेसीघटा इलाके में एक चरवाहे को अपना निवाला बनाया था. तब वन विभाग ने कार्रवाई करते हुए उसे 11 अगस्त को भी ट्रेंकुलाइज किया था.

ये भी पढ़ें - कांग्रेस बैठक में निकाय चुनाव, राजनीतिक नियुक्तियों पर चर्चा,पढ़ें-ये फैसले हुए

ये भी पढ़ें - सत्ता और संगठन में कोई मतभेद नहीं, जल्द मंत्रिपरिषद में विस्तार- अविनाश पांडे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करौली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 4:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading