Gujjar Reservation Movement: 10वें दिन भी रेलवे ट्रैक पर जमे हैं प्रदर्शनकारी, आज होगी बैठक

आंदोलनकारियों का कहना है कि जब तक उनकी सभी मांगें नहीं मान ली जाती वे रेलवे ट्रैक को नहीं छोड़ेगे चाहे जो कुछ हो जाये.
आंदोलनकारियों का कहना है कि जब तक उनकी सभी मांगें नहीं मान ली जाती वे रेलवे ट्रैक को नहीं छोड़ेगे चाहे जो कुछ हो जाये.

Gujjar Reservation Movement: आंदोलनकारी अपनी मांगों को लेकर अड़े हुये हैं. वे दसवें दिन भी दिल्ली-मुबंई रेलवे ट्रैक (Delhi-Mumbai Railway Track) पर कब्जा जमाये हुये है.

  • Share this:
करौली/भरतपुर. राजस्थान में चल रहे गुर्जर आरक्षण आंदोलन (Gujjar Reservation Movement) का दसवें दिन भी समाधान नहीं हो पाया है. आंदोनकारी अपनी मांगों को लेकर अभी तक दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक (Delhi-Mumbai Railway Track) पर जमे हुये हैं. आंदोलन को लेकर एक दिन पहले सोमवार को मंत्री अशोक चांदना के साथ ही हुई आंदोलनकारियों की बैठक बेनतीजा रही. वहीं इस मामले को लेकर आज करौली में गुर्जर समाज के लोग बैठक करेंगे. रेलवे ट्रैक बाधित होने के कारण इस मार्ग की ट्रेनों को डाइवर्ट (Trains Divert ) करने का सिलसिला भी जारी है.

पटरियों पर बैठे आंदोलनकारी अपनी मांगों को लेकर अड़े हुये हैं. उनका कहना है कि जब तक उनकी सभी मांगें नहीं मान ली जाती वे रेलवे ट्रैक को नहीं छोड़ेगे चाहे जो कुछ हो जाये. आंदोलनकारियों की मांगों पर बातचीत कर मसले का समाधान निकालने के लिये सोमवार को खेल मंत्री एवं जिला प्रभारी अशोक चांदना तथा गुर्जर नेताओं के बीच हुई वार्ता हुई थी, लेकिन वह बेनतीजा रही. वार्ता के बेनतीजा रहने के बाद आज करौली के गुड़ला गांव स्थित मंदिर पर गुर्जर समाज की बैठक आयोजित होगी. बैठक में 12 गांवों के बैंसला गुर्जर समाज के लोग शामिल होंगे. बैठक में आंदोलन की रणनीति को लेकर चर्चा होगी.

Jalore: 55 की उम्र में थानेदार डूबे इश्क में, प्रेमिका को भेजा बजरी का ट्रैक्टर, SP ने किया सस्पेंड

ट्रैक बाधित करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज करने की तैयारी


उल्लेखनीय है कि आंदोलन के कारण बाधित हो रहे रेलवे ट्रैक को देखते को रेलवे प्रशासन और आरपीएफ ने अब प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करने की तैयारी कर ली है. रेलवे ट्रैक बाधित करने वालों की पहचान कर ली गई है. रेलवे प्रशासन अगर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करता है तो फिर राज्य सरकार उन्हें वापस भी नहीं ले पायेगी, क्योंकि रेलवे केन्द्र के अधीन आता है. ऐसे में प्रदर्शन में शामिल युवा प्रदर्शनकारियों को भविष्य में सरकारी नौकरियों में समस्याओं का सामना करना पड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज