Assembly Banner 2021

Side Effects of Corona: उत्तर भारत के प्रसिद्ध कैला माता मंदिर में दर्शनों पर लगाई रोक

कैला माता के दर्शनों को आने वाले श्रद्धालुओं से भी कैला देवी नहीं आने की अपील लगातार की जा रही है.

कैला माता के दर्शनों को आने वाले श्रद्धालुओं से भी कैला देवी नहीं आने की अपील लगातार की जा रही है.

Side effects of corona's second wave: राजस्थान में कोरोना के लगातार तेजी से बढ़ते पॉजिटिव मामलों को देखते हुये करौली जिले में स्थित उत्तर भारत के प्रसिद्ध कैला माता मंदिर (Famous Kaila Mata Temple) में दर्शनों पर आगामी आदेशों तक रोक लगा दी गई है.

  • Share this:
करौली. कोरोना की दूसरी लहर (Second wave of corona) में राजस्थान में बेहताशा बढ़ते मामलों के अब पहले की तरह साइड इफेक्ट सामने आने लग गये हैं. कोरोना महामारी के चलते कैरोली जिले में स्थित उत्तर भारत के प्रसिद्ध कैला माता मंदिर (Famous Kaila Mata Temple) में दर्शनों पर आगामी आदेशों तक रोक लगा दी गई है. गुरुवार को सुबह मंगला आरती के बाद मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश रोक दिया गया.

आज से ही कैला माता का प्रसिद्ध चैत्र लक्खी मेला भी शुरू होना था. उसे भी पूर्व में ही कोरोना के मद्देनजर जिला प्रशासन की ओर से निरस्त कर दिया गया था. कैला देवी मंदिर ट्रस्ट प्रशासन के प्रबंधक महेश चंद शर्मा ने बताया कि जनहित को ध्यान में रखते हुए परिस्थितियों के मद्देनजर श्रद्धालुओं के लिए माता के दर्शन आगामी सूचना तक बंद किए गए हैं. वहीं कैला माता के दर्शनों को आने वाले श्रद्धालुओं से भी कैला देवी नहीं आने की अपील लगातार की जा रही है.

एक पखवाड़े में 40 से 50 लाख श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं
गौरतलब है कि राजस्थान के अलावा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात आदि प्रांतों से भी कैला माता के दरबार में लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है. मेले के दौरान एक पखवाड़े में 40 से 50 लाख श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं. ऐसे में कोरोना गाइडलाइन की पालना कर पाना संभव नहीं था.
लगातार दूसरे वर्ष मेला निरस्त किया गया है


इसके मद्देनजर ही पहले मेला निरस्त किया गया था. अब माता के दर्शन भी श्रद्धालुओं के लिए बंद किए गए हैं. यह दूसरा मौका है जब लगातार दूसरे वर्ष मेला और माता के दर्शन श्रद्धालुओं के लिए कोरोना वायरस के चलते बंद करने पड़े हैं. राजस्थान में अब कोरोना वायरस संक्रमण के पहले जैसे हालात होने से यह परिस्थितयां पैदा हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज