गुर्जर आरक्षण आंदोलन: कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला का लोगों से पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान, सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप

कर्नल बैंसला ने हिंडौन सिटी स्थित अपने आवास पर पुलिस-प्रशासन की एंट्री बंद कर दी है.
कर्नल बैंसला ने हिंडौन सिटी स्थित अपने आवास पर पुलिस-प्रशासन की एंट्री बंद कर दी है.

Gujjar Reservation Movement: कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला (Colonel Kirori Singh Bainsla) ने सरकार से किसी भी प्रकार की वार्ता से इनकार करते हुये समाज के लोगों से 1 नवंबर को पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान किया है.

  • Share this:
करौली. गुर्जर आरक्षण आंदोलन (Gujjar Reservation Movement) को लेकर प्रदेश में अब तेजी से घटनाक्रम बदलने लगा है. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला (Colonel Kirori Singh Bainsla) ने सरकार से किसी भी प्रकार की वार्ता करने से इनकार करते हुये समाज के लोगों से 1 नवंबर को पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान किया है. कर्नल बैंसला ने राज्य सरकार पर गुर्जर समाज की मांगों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुये 1 नवंबर से आंदोलन करने की अंतिम चेतावनी दे दी है.

इस मसले को लेकर बार-बार समझाइश के लिए उनके पास पहुंच रहे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की एंट्री भी उन्होंने शुक्रवार दोपहर से बंद कर दी है. इससे फिलहाल बातचीत की तमाम संभावनायें खत्म सी हो गई हैं. कर्नल बैंसला ने हिंडौन सिटी स्थित अपने आवास पर पुलिस-प्रशासन की एंट्री बंद कर दी है. दोपहर में कर्नल बैंसला मीडिया से रू-ब-रू हुये. बैंसला ने प्रेस कॉफ्रेंस करके राज्य सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया. बैंसला ने सरकार से किसी भी प्रकार की वार्ता से साफ इनकार करते हुये समाज के लोगों से 1 नवंबर को आंदोलन स्थल भरतपुर के बयाना में स्थित पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान किया. बैंसला ने पीलूपुरा समेत प्रदेशभर में विभिन्न स्थानों पर आंदोलन का ऐलान किया. उन्होंने प्रदेशभर में चक्का जाम करने की चेतावनी दी है.

Gujjar Reservation Movement: गुर्जर समाज को मनाने में जुटी गहलोत सरकार, की 3 बड़ी घोषणाएं




करौली और भरतपुर जिले में इंटरनेट सेवायें बंद
आरक्षण के मसले को लेकर गुर्जर नेताओं के तेवर देखते हुये सरकार में हड़कंप मचा हुआ है. सरकार कानून-व्यवस्था समेत अन्य सभी तरह के डैमेज कंट्रोल करने में जुटी है. कानून-व्यवस्था के मद्देनजर गुरुवार रात 12 बजे से ही करौली और भरतपुर जिले में इंटरनेट सेवायें बंद कर दी गई हैं. पुलिस-प्रशासन चौकस हो गया है।. करौली और उसके हिंडौन सिटी कस्बे तथा भरतपुर और उसके बयाना कस्बे में अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है. अगर शुक्रवार और शनिवार को बातचीत पटरी पर नहीं आई तो प्रदेश को एक बार फिर जाम और अव्यवस्थाओं से जूझना पड़ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज