गुर्जर आरक्षण आंदोलन: राजस्थान जाम हुआ तो पहले ये रेल और सड़क मार्ग होंगे प्रभावित

राजस्थान में रेलवे ट्रैक पर फिर हो सकते हैं ऐसे हालात. (फाइल फोटो)
राजस्थान में रेलवे ट्रैक पर फिर हो सकते हैं ऐसे हालात. (फाइल फोटो)

Gujjar Reservation Movement: गुर्जर समाज ने एक बार फिर आंदोलन की हुंकार भर दी है. 1 नवंबर को राजस्थान को जाम करने की चेतावनी (Warning) दी गई है. अगर ऐसा हुआ तो प्रदेश का कई हिस्सों से संपर्क कट जाएगा.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान एक बार फिर गुर्जर आरक्षण आंदोलन (Gujjar Reservation Movement) के मुहाने पर आ खड़ा हुआ है. गुर्जर समाज ने सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते फिर से आंदोलन की हुंकार भर दी है. गुर्जर नेताओं ने 1 नवंबर को राजस्थान जाम (Rajasthan jam) करने की घोषणा की है. इस बार एक बार फिर आंदोलन की शुरुआत पूर्वी राजस्थान में भरतपुर जिले के बयाना के पास पीलूपुरा (Pilupura) से की जाएगी.

हालांकि गुर्जर नेताओं ने जाम समेत आंदोलन की अपनी पूरी रणनीति का खुलासा नहीं किया है, लेकिन फिर भी माना जा रहा है कि जाम की चपेट में सबसे पहले दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक और आगरा-बीकानेर राजमार्ग नंबर-21 आएगा. ये जाम होते ही राजस्थान का कई हिस्सों से संपर्क कट जाएगा.

Gujjar Reservation Movement: गुर्जर समाज को मनाने में जुटी गहलोत सरकार, की 3 बड़ी घोषणाएं



ये जिले हैं गुर्जर बाहुल्य
राजस्थान में गुर्जर बाहुल्य जिलों में करौली, भरतपुर, सवाई माधोपुर, दौसा और धौलपुर जिला शामिल है. भीलवाड़ा का आसींद और सीकर का नीम का थाना तथा झुंझुनूं के खेतड़ी इलाके में भी गुर्जर समाज का बाहुल्य है. हाड़ौती संभाग में भी गुर्जर समाज की अच्छी खासी तादाद है. गुरुवार को दौसा के आभानेरी में गुर्जर समाज के नेताओं की हुई बैठक में इस बात के संकेत दे दिये गये थे कि कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर स्थित पीलूपुरा में जाम किया जाएगा तो अन्य नेता दौसा में आगरा-बीकानेर राजमार्ग पर स्थित सिकंदरा चौराहा पर सड़क मार्ग जाम करेंगे.

Gujjar Reservation Movement: करौली और भरतपुर में इंटरनेट सेवा बंद, हर गतिविधि पर कड़ी नजर

दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग
इस ट्रैक पर गुर्जर बाहुल्य करौली जिले का हिंडौन सिटी, सवाई माधोपुर, श्रीमहावीर जी, भरतपुर, पीलूपुरा, बयाना और कोटा आता है. यह ट्रैक जाम होते ही दिल्ली से मुंबई का रेलमार्ग राजस्थान में बंद हो जाएगा. गुर्जर समाज ने गत वर्ष फरवरी में किये अपने आंदोलन में इस मार्ग पर ही सवाई माधोपुर जिले के मलारना डूंगर के पास मकसूदनपुरा में ट्रैक पर कब्जा जमाया था.

गुर्जर आरक्षण आंदोलन: कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला का लोगों से पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान, सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप

आगरा-बीकानेर राजमार्ग संख्या-21
इस बार आंदोलन में पीलूपुरा के बाद जाम के लिए अगला टारगेट आगरा-बीकानेर राजमार्ग है. इस राजमार्ग पर दौसा जिले में स्थित सिकंदरा चौराहा इसका सेंटर पॉइंट माना जाता है. सिकंदरा चौराहे से एक रास्ता जयपुर तो एक आगरा जाता है. वहीं एक रास्ता अलवर और एक गंगापुर सिटी जाता है. इसके जाम होने से सवाई माधोपुर, गंगापुर सिटी, हिंडौन, बयाना, भरतपुर और मथुरा का रास्ता बंद हो जाता है. इससे एक तरह से राजस्थान का इधर से उत्तर प्रदेश से संपर्क कट जाता है. फिर केवल धौलपुर के रास्ते ही यूपी जाया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज