Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    गुर्जर आरक्षण आंदोलन: प्रदर्शनकारियों ने पटरियों पर ताना तम्बू, ट्रैक पर डटे रहने का ऐलान

    आंदोलनकारी सुबह-शाम का खाना पटरियों पर बैठकर ही  खा रहे हैं. (फाइल फोटो)
    आंदोलनकारी सुबह-शाम का खाना पटरियों पर बैठकर ही खा रहे हैं. (फाइल फोटो)

    Gurjar Reservation Movement: सभी मांगें नहीं माने से जाने से नाराज आंदोलनकारियों ने दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक (Delhi-Mumbai Railway Track) पर पीलूपुरा में एक बार फिर पटरियों पर तम्बू तान दिया है.

    • Share this:
    करौली/भरतपुर. प्रदेश में गुर्जर आरक्षण आंदोलन (Gurjar Reservation Movement) गुरुवार को पांचवें दिन भी लगातार जारी है. पटरियों बैठे गुर्जर समाज के प्रदर्शनकारी सभी मांगें नहीं जाने तक वहां से हटने को तैयार नहीं है. आंदोलन को विस्तार देने के लिये प्रदर्शनकारियों ने अब दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक (Delhi-Mumbai Railway Track) पर पीलूपुरा में एक बार फिर पटरियों पर तम्बू तान दिया है. इस बीच सरकार से बातचीत के कई दौर होने के बाद भी अभी तक पूरी तरह से सहमति नहीं बन पाई है. लिहाजा आंदोलनकारियों ने आंदोलन जारी रखने का निर्णय किया है.

    आंदोलन के चलते पांचवें दिन भी दिल्ली मुंबई रेलमार्ग नहीं खुल पाया है. गुर्जर आंदोलनकारियों ने आज पटरियों पर सुबह-सुबह कचौरी और जलेबी का नाश्ता किया. आंदोलनकारी सुबह-शाम का खाना भी पटरियों पर बैठकर ही खा रहें हैं. आंदोलन के कारण गत पांच दिन से करौली, सवाई माधोपुर, भरतपुर, धौलपुर और जयपुर के गुर्जर बाहुल्य इलाकों में इंटरनेट ठप है. इससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इंटरनेट बंद होने से पूर्वी राजस्थान के सभी जिलों में विद्यार्थियों की ऑनलाइन क्लासेज पूरी तरह से बंद है.

    Gujjar Reservation: बदलते पात्र और आंदोलन का अंतहीन सिलसिला, तस्‍वीरों में देखें 15 साल की कहानी



    पुलिस कांस्टेबल की भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थी हो रहे हैं परेशान
    इस बीच शु्क्रवार से राजस्थान पुलिस कांस्टेबल की भर्ती परीक्षा होनी है. इस भर्ती में शामिल होने वाले अभ्यर्थी एडमिट कार्ड निकलवाने के लिये दर दर की ठोकरे खा रहे हैं. लेकिन नेट बंद होने से वे एडमिट कार्ड डाउनलोड नहीं करवा पा रहे हैं. दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग बंद होने लोगों की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं. इंटरनेट के अभाव में व्यापारियों को भी ऑनलाइन लेनदेन में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

    गुर्जर समाज के दो फाड़ होने से आंदोलनकारी भी मायूस हैं
    वहीं आंदोलन से पहले इस मुद्दे पर गुर्जर समाज के दो फाड़ होने से आंदोलनकारी भी मायूस दिखाई दे रहे हैं. आंदोलन स्थल पीलूपुरा में उनके मुताबिक भीड़ नहीं जुट पा रही है. पटरियों पर आंदोलनकारियों के साथ गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के पुत्र विजय बैंसला डटे हुये हैं. वहीं कर्नल बैंसला दिन में एक बार आंदोलन स्थल पर आते हैं. वहां प्रदर्शनकारियों के साथ आंदोलन की समीक्षा और आगे की रणनीति बनाकर वापस अपने हिंडौन सिटी स्थित आवास चले जाते हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज