होम /न्यूज /राजस्थान /

बेटे की मौत का सदमा नहीं बर्दाश्त कर पाई मां, 2 दिन बाद तोड़ा दम, नम हो गई लोगों की आंखें

बेटे की मौत का सदमा नहीं बर्दाश्त कर पाई मां, 2 दिन बाद तोड़ा दम, नम हो गई लोगों की आंखें

Rajasthan News: राजस्थान के करौली में बेटे की मौत के बाद मां ने भी दम तोड़ दिया.

Rajasthan News: राजस्थान के करौली में बेटे की मौत के बाद मां ने भी दम तोड़ दिया.

Karauli News: मां की ममता की तुलना दुनिया की किसी भी चीज से नहीं की जा सकती. ऐसा ही उदाहरण राजस्थान (Rajasthan News) के करौली जिले में देखने को मिला. दरअसल, लांगरा इलाके में रहने वाले युवक की करंट लगने से मौत हो गई. बेटे की मौत (Mother Son Love) की खबर सुनते ही मां की तबियत बिगड़ गई. फिर दो दिन बाद उनकी भी मौत हो गई. मां की मौत के बाद पूरे गांव में शोक की लहर है.

अधिक पढ़ें ...

करौली. राजस्थान के करौली जिले के लांगरा थाना क्षेत्र के भांकरी के मकनपुर स्वामी में शोक की लहर है. इलाके में रहने वाले एक युवक की करंट लगने से अकाल मौत हो गई. बेटे की मौत का मां को ऐसा सदमा लगा कि उसकी भी हालात बिगड़ गई. बेटे के अंतिम संस्कार के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. लेकिन दो दिन बाद ही वह भी बेटे के पास वो भी चली गई. दरअसल लांगरा थाना क्षेत्र के भांकरी के मकनपुर स्वामी निवासी 28 वर्षीय युवक की मौत के 2 दिन बाद ही सदमे में आई उसकी मां ने भी बेटे के वियोग में दम तोड़ दिया, जिससे पूरे गांव में शोक की लहर छा गई है.

मिली जानकारी के अनुसार मकनपुर स्वामी (भांकरी) निवासी वीर सिंह जाटव (28) स्वतंत्रता दिवस के दिन पशुओं के लिए चारा ले रहा था. पास ही स्थित बिजली के खंभे के लिए लगे सपोर्ट वायर में करंट आने का उसे अंदेशा भी नहीं था. अचानक सपोर्ट वायर के सम्पर्क में आने से वीर सिंह की मौके पर ही मौत हो गई. ग्रामीण जब उसके शव को घर लाए तो उसे देख मां राजो बाई की हालत भी बिगड़ गई.

अस्पताल में बार-बार मां बेटे को ही पुकारती रही

अपने इकलौते बेटे की मौत की खबर से मां राजो बाई सदमे में आ गई. उधर ग्रामीण वीरसिंह का अंतिम संस्कार करने की तैयारी कर रहे थे. इधर मां की हालत भी बिगड़ने लगी. बेटे के अंतिम संस्कार के बाद मां को करौली जिले अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन राजो बाई की हालत लगातार बिगड़ती गई. राजो बाई के लगातार दो दिन आक्सीजन लगी रही. इस दौरान वह बार-बार अपने बेटे को पुकारती रही.

ये भी पढ़ें: टीचर से रात में चुपके से मिलने आते थे SDM, एक दिन लोगों ने कर दिया खेल, 15 घंटे रहे बंद, दोनों सस्पेंड

जयपुर ले जाने से पहले ही राजो ने दम तोड़ा
चिकित्सकों ने हालत लगातार बिगड़ती देख उसे जयपुर रेफर कर दिया. परिवारजन उसे जयपुर ले जाते उससे पहले ही राजो बाई ने बुधवार को दम तोड़ दिया. वीर सिंह के पिता की लम्बी बीमारी के कारण पहले ही मौत हो गई थी. वीर सिंह अपनी चार बहनों के बीच अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था और मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का पेट पालता था. वीर सिंह अपने पीछे पत्नी, लड़की और लड़का छोड़ गया है.

मां-बेटे की मौत से पूरे गांव में शोक की लहर
वीर सिंह के परिवार में कोई कमाने वाला नहीं है, क्योंकि बड़ी पुत्री की उम्र महज 5 वर्ष की और एक लड़का दो साल का है. वीर सिंह की मौत के बाद उसके वियोग में उसकी मां की मौत की खबर से पूरे गांव में शौक छा गया. सूचना लगते ही बाटदा सरपंच ने दीपक शर्मा मृतक वीर सिंह के घर पहुंचे और परिवार को तत्काल सहायता के रूप में 21000 रुपये देकर ढांढ़स बंधाया.

Tags: Karauli news, Rajasthan news

अगली ख़बर