Home /News /rajasthan /

पूर्व राजस्थान की राजनीति में मीणा फेक्टर को भुनाने में लगी BJP और कांग्रेस

पूर्व राजस्थान की राजनीति में मीणा फेक्टर को भुनाने में लगी BJP और कांग्रेस

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018.

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018.

पूर्वी राजस्थान की राजनीति में राज्यसभा सांसद किरोड़ी मीणा को रिप्लेस करने के लिए कई मीणा नेताओं ने कई दांव खेले. कई विपक्षी पार्टियों ने किरोड़ी का प्रभाव कम करने के प्रयास किए लेकिन सब नाकाम रहे. लेकिन अब नए समीकरण बने हैं.

    पूर्वी राजस्थान की राजनीति में एक नाम का उदय हुआ है और वो नाम है रमेश मीणा. कभी इस क्षेत्र में बीजेपी के राज्यसभा सांसद किरोड़ी मीणा की तूती बोला करती थी, किरोड़ी मीणा को रिप्लेस करने के लिए कई मीणा नेताओं ने कई दांव खेले. कई विपक्षी पार्टियों ने किरोड़ी का प्रभाव कम करने के प्रयास किए लेकिन सब नाकाम रहे. सबके सपने किरोड़ी मीणा के तेवरों और राजनीतिक परिपक्वता के आगे धवस्त हो गए. लेकिन इन सबके बीच एक 2008 के विधानसभा चुनावों में अचानक एक युवा नाम रमेश मीणा का उदय हुआ. जिसने बसपा के टिकट से चुनाव लडा, और कुल मतदान के 33% वोट अपने खाते में डालकर दोनों बडी राजनीतिक पार्टियों के दिग्गजों को धूल चटा दी.

    ये भी पढ़ें- करौली में पायलट ने कहा-राजनीति के अखाड़े में देंगे पटखनी

    इसके बाद रमेश मीणा के क्षेत्र में प्रभाव को देखते हुए और किरोड़ी मीणा की प्रेशर पॉलिटिक्स से परेशान तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रमेश मीणा को कांग्रेस के घर में प्रवेश कराया. इतना ही नहीं रमेश मीणा ने 2013 के विधानसभा चुनावों में मोदी की जबरदस्त लहर और क्षेत्र में तत्कालीन राजपा प्रमुख किरोड़ी मीणा के जबरदस्त प्रभाव के बीच 38% वोट अपने खाते में डालकर बीजेपी और किरोडी मीणा की पार्टी राजपा के उम्मीदवार को करारी मात दी. इन चुनावों में कांग्रेस के कई दिग्गज फेल हो गए लेकिन रमेश मीणा नायक बनकर उभरे.

    rajasthan polls
    डाॅ. किरोड़ीलाल मीणा. (फाइल फोटो)


    ये भी पढ़ें- राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ीलाल के काफिले पर फायरिंग, बदमाश हुए फरार

    2013 के चुनाव के बाद शुरुआती दो सत्रों में रमेश मीणा ने ही सदन में कांग्रेस विधायकों की कम संख्या की परवाह किए बिना मोर्चा संभाला, कांग्रेस में अहम जिम्मेदारी देते हुए उपनेता प्रतिपक्ष बना दिया. अब कांग्रेस के टिकट वितरण से जुडे मुद्दों पर बनी कांग्रेस चुनाव समिति में भी समन्वयक बनाया है जिसके खुद सचिन पायलट अध्यक्ष हैं.

    ये भी पढ़ें- हिंडौन में मतदाताओं ने सबको मौका दिया, लेकिन विकास 'चला' नहीं 'ठहरा' रहा

    गौर करने वाली बात यह है कि रमेश मीणा सीधे आलाकमान से भी सम्पर्क में हैं. एआईसीसी और पीसीसी चीफ सचिन पायलट के वफादार राजनीति सैनिकों शामिल रमेश मीणा अब ना केवल खुद सपोटरा से कांग्रेस के लिए चुनावी मैदान में है बल्कि प्रदेशभर में कांग्रेस के उम्मीदवारों को कैसे विजयी बनाया जाए इसका भी मास्टर प्लान तैयार कर रही दिग्गजों की टीम का अहम हिस्सा हैं. बहरहाल कांग्रेस को पूरी उम्मीद है कि पूर्वी राजस्थान में मीणा जाति के बीच रमेश मीणा का उदय हो चुका है, और किरोड़ी मीणा को बराबर की टक्कर देने वाला यह जबरदस्त चेहरा है. इतना ही नहीं किरोड़ी के अन्य विरोधी नेता जो कभी उनकी दबंगई के आगे चूं तक नहीं करते थे वो भी अब खुलकर सामने आए हैं, खुद को बैकफुट पर रखकर अंदरखाने रमेश मीणा को ही किरोड़ी के सामने प्रोजेक्ट कर रहे हैं.

    rajasthan polls
    रमेश मीणा. (फाइल फोटो)


    चूंकि रमेश मीणा के अलावा कोई मीणा नेता अभी तक किरोडी को विफल करने, या उन्हे टक्कर देने में सफल नहीं हो पाया है. हालांकि किरोड़ी जैसे कद्दावर नेता का कद अब भी रमेश मीणा के सामने बड़ा है, और वो दौसा, करौली, सवाईमाधोपुर के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी अपना प्रभाव रखते हैं, यही कारण रहा कि 2013 विधानसभा चुनावों में किरोड़ी ने राजपा के दम पर मोदी लहर के बीच भी चार सीटें निकाल दी थीं.

    यहां पढ़ें- राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 से जुड़ी सभी खबरें

    रमेश मीणा की सफलता के पीछे बातें, किस्से और कहानियां बहुत हैं पर इतने कम समय में जिस तरह से एक किरोड़ी जैसे कद्दावर नेता को आक्रामक अंदाज में रमेश खुली चुनौतियां देते हैं, सभाओं में जमकर आत्मविश्वास दिखाते हैं, वो उन्हें भीड़ से अलग खडा करता है. बहरहाल देखना होगा किरोड़ी मीणा के राजनीतिक अनुभव और तीखे तेवर पर रमेश मीणा आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को मध्य दक्षिणी और पूर्वी राजस्थान में क्या कमाल करके दिखा पाते हैं. हालांकि रमेश मीणा के सामने किरोड़ी ने पूर्व में कांग्रेस के ही नेता रहे हरकेश खेड़ला उर्फ हरकेश मीणा को आगे कर रखा है. हाल में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की करौली में आयोजित सभा को प्रायोजित तरीके से बिगाड़ने का असफल प्रयास भी हरकेश मीणा कर चुके हैं. खुद बलात्कार के आरोपी हरकेश मीणा कई महिनों तक छिपते भी फिरे थे लेकिन राजनीतिक संरक्षण से अभी तक बचे हुए हैं.

    (रिपोर्ट-आलोक शर्मा)

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर