अपना शहर चुनें

States

Kisan Aandolan: दिल्ली पर दबाव बढ़ाएंगे राजस्थान के किसान, NH-8 जाम करने की बन रही रणनीति

राजस्थान के किसान बड़ी रणनीति तैयार कर रहे है.
राजस्थान के किसान बड़ी रणनीति तैयार कर रहे है.

राजस्थान (Rajasthan) के किसान केंद्र सरकार पर दबाव बनाने की तैयारी कर रहे है. किसान राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ को भी स्थायी तौर पर जाम करने की रणनीति बनाई जा रही है. साथ ही राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने 12 दिसंबर को दिल्ली (Delhi) कूच का ऐलान किया है.

  • Share this:
जयपुर. दिल्ली (Delhi) में चल रहे किसान आंदोलन (Farmer Protest) में राजस्थान के किसान भी अहम भूमिका निभा रहे हैं. अब प्रदेश के किसान केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ाने के लिए दिल्ली में अपनी संख्या बढ़ाएंगे. इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ को भी स्थायी तौर पर जाम करने की रणनीति बनाई जा रही है. प्रदेश में अब तक पंचायतीराज चुनाव चल रहे थे. लिहाजा किसान कम संख्या में दिल्ली पहुंचे थे. अब अखिल भारतीय किसान सभा की राज्य कमेटी ने चेतावनी दी है कि यदि आज की तारीख में केंद्र सरकार कृषि बिल वापस नहीं लेती है और एमएसपी पर गारंटीड खरीद का कानून नहीं बनाया जाता है तो राजस्थान के किसान 12 दिसंबर से अनिश्चितकालीन महापड़ाव के लिए दिल्ली कूच करेंगे.

गौरतलब है कि राजस्थान से दिल्ली जा रहे किसानों को हरियाणा पुलिस द्वारा बॉर्डर पर ही रोका जा रहा है जिसे लेकर किसानों में आक्रोश है. मंगलवार शाम अखिल भारतीय किसान सभा के पदाधिकारियों को भी बॉर्डर पर रोक दिया गया था जिसके बाद उन्होंने अनिश्चितकालीन पड़ाव के लिए दिल्ली कूच का ऐलान किया.





राजस्थान के किसानों का ये है स्टैंड
राजस्थान के किसान आंदोलन में बढ़ चढ़कर अपना योगदान दे रहे हैं. किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा है कि कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग तो है ही इसके अलावा जब तक एमएसपी पर गारंटीड खरीद का कानून नहीं बना दिया जाता तब तक राजस्थान के किसानों का आंदोलन जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि आंदोलन में राजस्थान के किसानों की महत्वपूर्ण भूमिका है और अब अपनी ताकत दिखाने के लिए राजस्थान के किसान ज्यादा संख्या में दिल्ली पहुंचेंगे.

ये भी पढ़ें: हनीट्रैप केस: SIT में 2 IPS अफसर शामिल, लिफाफे में बंद के 40 नामों पर कसेगा शिकंजा

12 को RLP का भी है कूच
एक और जहां प्रदेश के किसान संगठन दिल्ली में अपनी संख्या बढ़ाने का ऐलान कर रहे हैं. वहीं दूसरी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी भी केंद्र सरकार की मुश्किलें बढ़ाती हुई नजर आ रही है. पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल ने भी 12 दिसंबर को दिल्ली कूच का ऐलान किया है. इसके लिए कार्यकर्ता पहले कोटपुतली में एकत्रित होकर सभा करेंगे और उसके बाद दिल्ली कूच करेंगे. गौरतलब है कि आरएलपी अभी तक भी एनडीए का हिस्सा है. हालांकि बेनीवाल कह चुके हैं कि यदि केंद्र सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है तो उन्हें एनडीए में बने रहने के फैसले पर पुनर्विचार करना पड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज