Home /News /rajasthan /

संपत्ति करोड़ों की, फिर भी 2 वक्त की रोटी के लिए तरस रही ये 95 साल की मां, जानिए क्यों

संपत्ति करोड़ों की, फिर भी 2 वक्त की रोटी के लिए तरस रही ये 95 साल की मां, जानिए क्यों

Rajasthan News: कोटा की रामनाथी बाई 95 साल की उम्र में दो वक्त की रोटी के लिए भी तरस रही हैं. उन्होंने एक शख्स पर सबकुछ हड़पने का आरोप लगाया है.

Rajasthan News: कोटा की रामनाथी बाई 95 साल की उम्र में दो वक्त की रोटी के लिए भी तरस रही हैं. उन्होंने एक शख्स पर सबकुछ हड़पने का आरोप लगाया है.

Rajasthan News: 95 साल की बुजुर्ग रामनाथी बाई की कहानी सोचने पर मजबूर करती है. राजस्थान के कोटा की इस बुजुर्ग के पास कभी करोड़ों की संपत्ति थी, लेकिन आज ये दो वक्त की रोटी के लिए भी परेशान हैं. ये न्याय के लिए भटक रही हैं. चलने-फिरने और बोलने में असमर्थ ये महिला आज रिश्तेदारों और परिचितों के सहारे जिंदा है. उन्होंने पुलिस को शिकायत की है कि किसी गिरिराज श्रंगी ने उनकी बेटी को भरोसे में लिया और तंत्र-मंत्र कर सारी जायदाद और रुपये हड़प लिए. रामनाथी की बेटी शांति मेहरा शिक्षा विभाग में डाइट प्रिंसिपल थीं. हड्डी के कैंसर की वजह से शांति की इसी साल 13 जनवरी को मौत हो गई.

अधिक पढ़ें ...

कोटा. राजस्थान के कोटा की 95 साल की रामनाथी बाई आज चलने-फिरने और बोलने में असमर्थ हैं. कांपते हाथों से इशारा कर दर्द बयां करने वाली ये बुजुर्ग न्याय की आस लगाए बैठी हैं. उनका आरोप है कि एक शख्स ने धोखे से उनका सबकुछ छीन लिया. जब से इनकी शिक्षा अधिकारी रह चुकी 72 साल की बेटी शांति मेहरा की मौत हुई, तभी से इन्हें लगा कि सबकुछ लूट गया. ताज्जुब करने वाली बात ये है कि करोड़ों की सम्पत्ति होने के बाद भी ये आज दो वक्त की रोटी के लिए तरह रही हैं. रामनाथी की बेटी शांति मेहरा साल 2008 में शिक्षा विभाग में डाइट प्रिंसिपल की पोस्ट से रिटायर्ड हुई थीं. मां-बेटी के अलावा घर में और कोई नहीं था. हड्डी के कैंसर की वजह से शांति की इसी साल 13 जनवरी को मौत हो गई.

बेटी की मौत के बाद रामनाथी बाई अकेली पड़ गईं. इसके बाद उनकी संपत्ति और पैसा भी हाथ से निकल गया. रामनाथी बाई का कहना है कि किसी गिरिराज नाम के शख्स ने मन्दिर बनाने की आड़ में उसकी बेटी का सबकुछ हड़प लिया. आगे का जीवनयापन करने के लिए उनके पास फूटी कौड़ी नहीं है. यहां तक कि उनके पास राशन कार्ड, आधार कार्ड, बेटी शांति का डेथ सर्टिफिकेट तक नहीं छोड़ा. हद तो तब हो गई जब बेटी के अंतिम संस्कार के लिए भी परेशान होना पड़ा. उन्होंने महावीर नगर थाने में पूरे मामले की शिकायत की है, लेकिन फिलहाल इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

देखभाल के नाम पर छल

पीड़िता रामनाथी व उनके रिश्तेदारों का आरोप है कि गिरिराज श्रृंगी ने सबकुछ हड़पने की षडयंत्र किया. उसने मृतिका शांति मेहरा का अकाउंट,पेंशन के रुपए व खाते की जमीन फर्जी तरीके से हड़प ली, महावीर नगर सेकंड व कोटडी के मकान के कागज भी खुद के कब्जे में रख लिए. गिरिराज श्रृंगी शिक्षा विभाग में लाइब्रेरियन पोस्ट से रिटायर्ड है. उसका लम्बे समय से रामनाथी बाई के घर आना-जाना था. वो शांति मेहरा की देखभाल करता था. रिश्तेदारों ने आरोप लगाया कि इसी दौरान उसने कागजों में छलकपट, तंत्र-मंत्र विद्या से कागजातों पर साइन करवाकर फर्जीवाड़े को अंजाम दिया. गिरिराज ने अपने बेटे को नॉमिनी बना कर सारी सम्पति हड़प ली और उन्हें पाई-पाई को मोहताज कर दिया.

आरोपी ने आरोपों को बताया निराधार

इकलौती बेटी की मौत के बाद इस बुजुर्ग महिला पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा. जब दूर के रिश्तेदार और परिचितों ने सहारा दिया तब जाकर उन्हें सारे फर्जीवाड़े का पता चला. उम्र के इस पड़ाव पर यह महिला अब कलेक्टर, एसपी व आईजी से न्याय की गुहार लगाने को मजबूर हैं. हालांकि, गिरिराज ने षड्यंत्र से जमीन-जायदाद हड़पने के आरोपों को निराधार बताया. उन्होंने कहा कि मृतिका शांति मेहरा ने खुद अपनी मर्जी से अपनी धन-दौलत मंदिर के नाम पर की है.

Tags: Kota news, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर