मॉडर्निटी और प्राचीनता का अनूठा संगम है राजस्थान का कोटा शहर
Kota News in Hindi

मॉडर्निटी और प्राचीनता का अनूठा संगम है राजस्थान का कोटा शहर
कोटा (फाइल फोटो)

कोटा (Kota) शहर में आने के बाद पूरा का पूरा शहर आपको आकर्षित कर सकता है, लेकिन इनमें भी कुछ ऐसी जगहें हैं जिनको देखे बिना आपका कोटा आना अधूरा ही माना जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 28, 2020, 1:40 PM IST
  • Share this:
कोटा. राजस्थान (Rajasthan) के कोटा शहर (Kota) के बारे में इतिहास में बेहिसाब जानकारी और आंकड़े मौजूद हैं. ऐसे में न्यूज़ 18 हिंदी उन्हीं जानकारियों में से आपके लिए कुछ बेहद खास जानकारियां लेकर आया है. राजस्थान को और भी करीब से जानने-समझने में ये हमारी एक कोशिश मात्र है, ताकि भारत की जिन विविधताओं की हम चर्चा करते हैं उनसे और भी अधिक जुड़ सकें.

इतिहास कहता है कि राजस्थान का कोटा शहर राजा कोटिया भील द्वारा स्थापित किया गया था. एनएच 27 पर बसा यह शहर अपने यहां के शैक्षणिक संस्थानों की वजह से देश भर में जाना जाता है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि कोटा सिर्फ शिक्षण संस्थानों की वजह से जाना जाता है. चम्बल नदी के पूर्वी किनारे पर बसा कोटा शहर महलों, संग्रहालयों और बागीचों के लिए भी देश-दुनिया में मशहूर है. मॉडर्निटी और प्राचीनता को एक साथ समेटे यह शहर 1818 ई. में ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन हो गया था.

कोटा शहर में आने के बाद पूरा का पूरा शहर आपको आकर्षित कर सकता है, लेकिन इनमें भी कुछ ऐसी जगहें हैं जिनको देखे बिना आपका कोटा आना अधूरा ही माना जा सकता है. जिनमें सिटी फोर्ट पैलेस, राव माधो सिंह संग्रहालय, जगमंदिर महल, सरकारी संग्रहालय, चम्बल गार्डन, देवता जी की हवेली और गणेश उद्यान मुख्य आकर्षण हैं.



प्रमुख विश्वविद्यालय और कॉलेज
राजकीय वाणिज्य महाविद्यालय, कोटा
गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, कोटा
राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय, कोटा
वर्धमान महावीर विश्वविद्यालय
कोटा विश्वविद्यालय, कोटा
राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कोटा

कोटा में कोचिंग
ये सब साल 1981 में शुरू हुआ जब जेके सिंथेटिक लिमिटेड नाम की कंपनी में काम करने वाले एक इंजीनियर वीके बंसल ने शहर में आठवीं क्लास के स्टूडेंट्स को ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया. 1985 में बंसल सुर्ख़ियों में आ गए जब पहली बार उनके यहां से ट्यूशन लेने वाले एक बच्चे ने आईआईटी-जेईई क्लीयर कर लिया. इसके बाद साल 1991 में आईआईटी की तैयारियों के लिए बंसल क्लासेज की शुरुआत हुई. बाद में इसी में पढ़ाने वाली फैकल्टीज ने अलग होकर कई अन्य कोचिंग संस्थानों की शुरुआत की. फिलहाल कोटा के कोचिंग संस्थान सालाना कम से कम एक लाख रुपए फीस लेते हैं.

प्रमुख कोचिंग संस्थान

एलेन करियर इंस्टिट्यूट
मोशन एजुकेशन प्राइवेट लिमिटेड
रेजोनेंस कोटा
करियर पॉइंट
बंसल क्लासेज
आकाश इंस्टिट्यूट
वाइब्रेंट अकादमी
सर्वोत्तम इंस्टिट्यूट

माना जाता है कि देश का कोई भी कोचिंग हब आईआईटी, मेडिकल और एम्स एंट्रेंस एग्जाम में टॉप रैंक, नंबर ऑफ टॉपर्स और टोटल सिलेक्शन के मामले में कोटा के आगे कहीं नहीं ठहरता. यहां के कोचिंग सेंटर्स की मानें तो देश के तीन सबसे मुश्किल एग्जाम में कोटा का सक्सेस रेट 40% से भी ज्यादा बताया जाता है. यहां के कोचिंग संस्थानों का दावा है कि आईआईटी का हर तीसरा और मेडिकल में फाइनल सेलेक्शन तक पहुंचा हर पांचवां स्टूडेंट कोटा का ही होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज