लाइव टीवी

Crocodile city बन रहा कोचिंग सिटी कोटा, फिर 2 मगरमच्छ आए, अब तक 61 पकड़े

News18 Rajasthan
Updated: November 3, 2019, 5:36 PM IST
Crocodile city बन रहा कोचिंग सिटी कोटा, फिर 2 मगरमच्छ आए, अब तक 61 पकड़े
रविवार को दो मगरमच्छ शहर की पूनम कॉलोनी क्षेत्र के रोटेदा रोड के पास आबादी क्षेत्र में स्थित खेत के बाड़े में आ गए. फाइल फोटो

कोचिंग सिटी कोटा (Coaching City Kota) अब क्रोकोडाइल सिटी (Crocodile City) बनती जा रही है. कोटा शहर में आए दिन मगरमच्छ आबादी क्षेत्र (Populated area) में आ रहे हैं. रविवार को फिर वन विभाग ने शहर में एक साथ दो मगरमच्छों (Two crocodiles) को आधे घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर पकड़ा (Caught) है.

  • Share this:
कोटा. राजस्थान की कोचिंग सिटी कोटा (Coaching City Kota) अब क्रोकोडाइल सिटी (Crocodile City) बनती जा रही है. कोटा शहर में आए दिन मगरमच्छ आबादी क्षेत्र (Populated area) में आ रहे हैं. रविवार को फिर वन विभाग की लाडपुरा रेंज के रेस्क्यू दल ने शहर में एक साथ दो मगरमच्छों (Two crocodiles) को आधे घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर पकड़ा (Caught) है. इस बार मानसून सत्र से लेकर अब तक 61 मगरमच्छ वन विभाग (Forest department) शहरी इलाके से पकड़ चुका है.

पूनम कॉलोनी क्षेत्र में पकड़े 2 मगरमच्छ
रविवार को दो मगरमच्छ शहर की पूनम कॉलोनी क्षेत्र के रोटेदा रोड के पास आबादी क्षेत्र में स्थित खेत के बाड़े में आ गए थे. इस खेत में पानी का एक टैंक बना हुआ है. दोनों मगरमच्छ उसमें थे. सूचना पर रेंजर संजय नागर ने लाडपुरा रेंज कार्यालय से रेस्क्यू टीम को मौके पर भेजा. बाद में मौके पर पहुंची टीम ने दोनों मगरमच्छ को काफी मशक्कत करके पकड़ा. उन्हें मुकंदरा टाइगर रिजर्व के सावनभादो डैम में छोड़ा गया है. दोनों मगरमच्छ की लंबाई 3 से 4 फीट के करीब की थी.

चंबल नदी में हैं काफी मगरमच्छ

उल्लेखनीय है कि चंबल नदी में काफी संख्या में मगरमच्छ हैं. कोटा शहर चंबल के किनारे बसा हुआ है. इस बार भारी बारिश के कारण चंबल नदी पर कोटा में बने कोटा बैराज से बार-बार काफी मात्रा में पानी छोड़ा गया. चंबल के इस पानी के कारण कोटा शहर में दो बार बाढ़ के हालात भी बन गए थे. चंबल में उफान के साथ ही मगरमच्छ नदी किनारे पर जा जाते हैं. यहां से वे आबादी क्षेत्र में घुस जाते हैं.

कभी सड़कों पर तो कभी घरों में आ जाते हैं मगरमच्छ
हालात ये हो चुके हैं मगरमच्छ कभी किसी के घर में घुस जाते हैं तो कभी सड़कों पर घूमते दिखाई देते हैं. इसके चलते नदी किनारे बसी बस्तियों के लोग भी काफी दहशत में रहते हैं. आलम यह हो चुका है कि अब लोग इसे चुनावी मुद्दा तक बनाने लग गए है. मगरमच्छों से परेशान कई बस्तियों के वाशिंदे यहां तक कहने लग गए हैं कि जो मगरमच्छों से निजात दिलाएगा निकाय चुनाव में वोट उसी का देंगे.
Loading...

(रिपोर्ट- अर्जुन अरविंद) 

सीकर में पैंथर की दशहत: सड़कों पर दौड़ा, दुकान में घुसा फिर पेड़ पर चढ़ा

GPS बना पुलिस का मददगार, 16 घंटे में किडनैपर्स को दबोचा, यहां पढ़ें पूरी कहानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 5:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...