कोटा में भ्रष्ट पुलिस की दंबगई का खुला खेल, फरार ASI के पकड़े गये दलाल के भाई ने परिवादी के पिता को दी धमकी

आरोपी एएसआई रणवीर सिंह ने फरियादी को खुद के गैंगस्टरों से संबंध होने की भी धमकी दी थी.

राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) की ओर से एक सहायक पुलिस उप निरीक्षक के खिलाफ की गई कार्रवाई के बाद इस मामले में गिरफ्तार किये गये एएसआई के दलाल के भाई ने परिवादी के पिता को धमकी (Threat) दी है.

  • Share this:
कोटा. राजस्थान पुलिस में भ्रष्टाचार (Corruption) और दबंगई का खुला खेल चल रहा है. कोटा में रिश्वत मांगने के आरोप में फरार चल रहे सहायक पुलिस उप निरीक्षक रणवीर सिंह (ASI Ranveer singh) के पकड़े गये दलाल राम सिंह के भाई ने परिवादी के पिता को धमकी (Threat) दी है. इसके बाद परिवादी ने परिवार को सुरक्षा देने की गुहार की. उसकी मांग पर कोटा ग्रामीण पुलिस ने परिवादी विपिन कुमार के कोटा आवास और गेता गांव में उनके पिता की सुरक्षा के लिए हथियारबंद जवान तैनात किये हैं. लेकिन घटना के 6 दिन बाद भी आरोपी एएसआई एसीबी की गिरफ्त से बाहर है.

एसीबी ने गत 9 मार्च को इटावा थाने के एसआई रणवीर सिंह के दलाल राम सिंह को 40000 रुपये की रिश्वत लेते ट्रैप किया था. एसीबी की कार्रवाई की भनक पाकर एएसआई रणवीर सिंह फरार हो गया था. रिश्वत मांगने की पुष्टि होने के बाद एसीबी ने एएसआई रणवीर सिंह को मुल्जिम बना लिया. लेकिन 6 दिन बीत जाने के बाद भी एसीबी उसे गिरफ्तार नहीं कर पाई है. इस बीच एएसआई के पकड़े गये दलाल राम सिंह के भाई ने परिवादी विपिन कुमार के पिता को ही धमकी दे डाली. इस पर विपिन ने पुलिस से परिवार की सुरक्षा की मांग की. परिवादी की मांग पर पुलिस ने उसके कोटा आवास और गेता गांव में उनके पिता की सुरक्षा के लिए हथियारबंद जवान तैनात किये गये हैं.

फरार एएसआई के गैंगस्टरों से भी हैं संबंध
परिवादी की शिकायत के बाद जब एसीबी ने उसका सत्यापन कराया तो रणवीर सिंह ने फरियादी को खुद के गैंगस्टरों से संबंध होने की भी धमकी दी थी. इसका एसीबी ने अपनी रिपोर्ट में बखूबी जिक्र किया है एसीबी इसकी भी जांच पड़ताल कर रही है. एसीसी की कार्रवाई के बाद से परिवादी का परिवार डर के साये में जी रहा है.

यह था पूरा मामला
दरअसल इटावा थाने में दर्ज एक मामले में एएसआई रणवीर सिंह ने मामले को रफा दफा करने की एवज में परिवादी विपिन कुमार से 300000 रुपये की रिश्वत की मांग की थी. परिवादी ने जब रिश्वत देने से मना कर दिया तो एएसआई ने उसे गिरफ्तार करने की धमकी दी. उसके बाद एएसआई ने परिवादी को अग्रिम जमानत करवाने के लिये 15 दिन का वक्त देते हुये 40,000 की रिश्वत की मांग की थी. इस पर परिवादी ने एसीबी की शरण ली. उसकी शिकायत पर कोटा एसीबी के एएसपी ठाकुर चंद्रशील के नेतृत्व में रणवीर सिंह के दलाल राम सिंह को 9 मार्च को 40,000 की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.