अपना शहर चुनें

States

कोटा: 18 मासूमों की मौत का सच जानने के लिये जेके लॉन अस्पताल पहुंचा मानवाधिकार आयोग

आयोग के सचिव बीएल मीणा ने बताया कि यह पहली विजिट है. इस विजिट के तहत अस्पताल का निरीक्षण कर अस्पताल प्रशासन से पूरी रिपोर्ट को तलब किया गया है.
आयोग के सचिव बीएल मीणा ने बताया कि यह पहली विजिट है. इस विजिट के तहत अस्पताल का निरीक्षण कर अस्पताल प्रशासन से पूरी रिपोर्ट को तलब किया गया है.

राज्य मानवाधिकार आयोग (Human Rights Commission) आज कोटा के जेके लॉन अस्पताल पहुंचा. आयोग के अधिकारियों ने वहां हाल ही में 3 दिन के भीतर 18 बच्चों की हुई मौत (Death) के मामले में अस्पताल प्रशासन और जिला प्रशासन से जानकारी ली.

  • Share this:
कोटा. कोचिंग सिटी कोटा (Kota) में हुई 18 मासूम बच्चों की मौत (Death) का सच जानने के लिये राज्य मानवाधिकार आयोग (Human Rights Commission) सोमवार को जेके लॉन अस्पताल (JK Lawn Hospital) पहुंचा. आयोग के अधिकारियों ने अस्पताल के सभी वार्डों का निरीक्षण किया. उन्होंने अस्पताल अधीक्षक सहित अस्पताल में तैनात चिकित्सकों से संसाधनों एवं फिलहाल अस्पताल में किए गए सुधारात्मक कार्यों के बारे में जानकारी ली. आयोग ने अस्पताल प्रशासन व स्थानीय प्रशासन से भी बच्चों की मौत की रिपोर्ट मांगी है. उसकी जांच के बाद आयोग अपनी रिपोर्ट सरकार को पेश करेगा.

सोमवार को दोपहर में राज्य मानवाधिकार आयोग के सचिव बीएल मीणा और रजिस्ट्रार ओमी पुरोहित जेके लॉन अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे. आयोग के सचिव बीएल मीणा ने बताया कि फिलहाल अस्पताल का निरीक्षण किया गया है और बच्चों की मौत में अस्पताल प्रशासन से पूरा रिकॉर्ड लिया गया है. आयोग उसकी मेडीकल जांच करवाएगा. अभी मौत का जिम्मेदार कौन है कहना जल्दबाजी होगा. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि इन तीन चार दिन के दौरान अस्पताल प्रशासन द्वारा सुधार की दिशा में जो कार्य किये गए हैं उनका भी निरीक्षण किया गया है. इस दौरान कमिश्नर केसी मीणा, डीआईजी रविदत्त गौड़, जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर विजय सरदाना और जेके लॉन अस्पताल के अधीक्षक डॉ. सुरेश दुलारा सहित चिकित्सा विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहे.

Chambal River Front Project: अब 700 करोड़ रुपयों का हुआ, जानिये क्या-क्या बदलेगा कोटा में

आयोग ने इस मामले में स्वप्रेरित संज्ञान लिया है


कोटा के जेके लॉन अस्पताल में 3 दिन में 18 नवजातों की हुई मौत के बाद आयोग ने इस मामले में स्वप्रेरित संज्ञान लिया है. उसके बाद आयोग टीम ने आज कोटा पहुंचकर निरीक्षण किया. इससे पहले आयोग के सचिव और रजिस्ट्रार ने स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों और चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक कर शिशुओं की मौत मामले पर बातचीत की. इस दौरान सरकार की ओर से ओर बीते वर्ष की गई घोषणाओं के तहत उठाए गए कदमों के बारे में भी जानकारी ली.

पीड़ित परिवारों से भी मुलाकात करेगा आयोग
शिशुओं की मौतों से सुर्खियों में आया कोटा का जेके लॉन अस्पताल एक बार फिर सवालों के घेरे में आ चुका है. अस्पताल में बीते दिनों हुई शिशुओं की मौत मामले में परिजनों द्वारा अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही करने के गंभीर आरोप लगाये गये हैं. इसके बारे में भी राज्य मानव अधिकार आयोग की टीम जांच करेगी. आयोग के सचिव बीएल मीणा ने बताया कि यह पहली विजिट है. इस विजिट के तहत अस्पताल का निरीक्षण कर अस्पताल प्रशासन से पूरी रिपोर्ट को तलब किया गया है. अब आयोग की टीम पीड़ित परिवारों के बीच भी पहुंचेगी और उनके बयान दर्ज किए जाएंगे. इसके बाद आयोग अपनी रिपोर्ट पेश करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज