JEE Main September 2020: राजस्थान के 9 शहरों में होगी परीक्षा, यहां पढ़ें जरूरी टिप्स
Kota News in Hindi

JEE Main September 2020: राजस्थान के 9 शहरों में होगी परीक्षा, यहां पढ़ें जरूरी टिप्स
छात्रों को मास्क भी दिया जाएगा.

बच्चों को आधार कार्ड (Adhar Card) या कोई आइडी प्रूफ, सेल्फ डिक्लेरेशन भरा हुआ प्रवेश पत्र, पारदर्शी पेन, खुद का फोटो, सैनेटाइजर (Sanitizer) और पानी की बोतल (Water Bottle) साथ में लाने होंगे.

  • Share this:
 कोटा. देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन (JEE Main 2020) मंगलवार से शुरू होने जा रही है. पहले दिन बी-आर्क और बी-प्लानिंग कोर्स में प्रवेश लिए जेईई मेन्स का आयोजन देश के 224 परीक्षा केन्द्रों पर होगा. राजस्थान (Rajasthan) में 9 शहरों में भी यह परीक्षा होगी जिनमें कोटा, अजमेर, अलवर, बीकानेर, जयपुर, जोधपुर, सीकर, श्रीगंगानगर और उदयपुर शामिल है. इन शहरों में सितंबर जेईई मेन परीक्षा के लिए 19 केन्द्र बनाए गए हैं जहां 45 हजार 227 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल होंगे. कोटा में इस परीक्षा के आयोजन के लिए एनटीए द्वारा निर्धारित दो परीक्षा केन्द्र (Exam Center) रानपुर स्थित शिव ज्योति स्कूल और अनंतपुरा स्थित ओम कोठारी काॅलेज में होंगे.

मंगलवार को होने वाली बी-आर्क और बी-प्लानिंग की परीक्षा सिर्फ शिव ज्योति स्कूल में होगी. पहले दिन कोटा में कुल 418 विद्यार्थी दो अलग-अलग पारियों में परीक्षा में शामिल होंगे. जेईई मेन्स परीक्षा 6 सितंबर तक 12 शिफ्टों में प्रत्येक दिन सुबह 9 से 12 और दोपहर 3 से 6 बजे के मध्य देश के 224 शहरों में 660 परीक्षा केन्द्रों में आयोजित होगी. एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के करियर काउंसलिंग एक्सपर्ट अमित आहूजा ने बताया कि जेईई-मेन सितम्बर के लिए कुल 8 लाख 58 हजार 273 विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. इनमें 7 लाख 46 हजार 115 विद्यार्थी केवल बीई और बीटेक के लिए जेईई मेन्स देंगे, जबकि 1 लाख 12 हजार 158 विद्यार्थियों ने बी-प्लानिंग, बीआर्क और बीटेक के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है.

ज्योमेट्री बॉक्स सेट लेकर जाएं साथ



आहूजा ने बताया कि मंगलवार को बीआर्क के तृतीय भाग में होने वाले ड्राइंग टेस्ट के लिए विद्यार्थी को खुद का ज्योमेट्री बाॅक्स सेट, पेन्सिल्स और क्रेयोन्स लेकर जाने होंगे. विद्यार्थियों को ड्राइंग शीट पर वाटर कलर का उपयोग नहीं करने दिया जाएगा. आहूजा ने बताया कि एनटीए द्वारा जेईई मेन सितंबर के प्रवेश पत्रों में प्रत्येक विद्यार्थी को रिपोर्टिंग का अलग-अलग समय दिया गया है. सभी विद्यार्थी एक ही समय में परीक्षा केन्द्र न पहुंचे. अनावश्यक भीड़ से बचने के लिए एनटीए द्वारा यह निर्णय लिया गया है, इसलिए विद्यार्थी अपने प्रवेश पत्र में दिए रिपोर्टिंग टाइम के अनुसार ही परीक्षा केन्द्र पर रिपोर्ट करें. परीक्षा प्रारंभ होने से आधा घंटा पूर्व प्रवेश द्वार बंद कर दिए जाएंगे. विद्यार्थियों को दिए गए प्रवेश पत्र में सेल्फ डिक्लेरेशन प्रारूप में विद्यार्थी को अभिभावक के हस्ताक्षर, स्वयं का बांये हाथ का अंगूठा का निशान और स्वयं की फोटो लगाकर ले जाना होगा.
ये भी पढ़ें: राजस्थान में पेरेंट्स ने उठाई 'नो स्कूल नो फीस' की मांग, सरकार को 7 दिन का अल्टीमेटम

सबसे जरूरी बात

अमित आहूजा ने बताया कि विद्यार्थी को इस प्रारूप में स्वयं के हस्ताक्षर, परीक्षा केन्द्र में परीक्षक के सामने ही करने होंगे. विद्यार्थी स्वयं के साथ आधार कार्ड या कोई आइडी प्रूफ सेल्फ डिक्लेरेशन भरा हुआ प्रवेश पत्र, पारदर्शी पेन, स्वयं का फोटो, सैनेटाइजर और पानी की बोतल साथ में लाने होंगे. विद्यार्थियों को कोई भी इलेक्ट्रोनिक गैजेट साथ लाने की अनुमति नहीं होगी. साथ ही मोटे सोल के जूते और बड़े बटन वाले वस्त्रों की भी अनुमति नहीं होगी. विद्यार्थियों को प्रवेश द्वार पर थर्मल स्केनिंग कर प्रवेश पत्र में दिए गए बार कोड रीडर के माध्यम से लैब आवंटित की जाएगी. साथ ही विद्यार्थियों को थ्री-लेयर मास्क भी दिया जाएगा, जिसे विद्यार्थी को परीक्षा देते समय उपयोग करना अनिवार्य होगा. विद्यार्थियों को परीक्षा केन्द्र पर रफ कार्य के लिए 5 रफ शीट उपलब्ध करवाई जाएगी, जिस पर विद्यार्थी को रोल नम्बर और नाम लिखकर परीक्षा समाप्त होने पर पर्यवेक्षक को लौटाना होगा. साथ ही विद्यार्थी को परीक्षा समाप्त होने पर प्रवेश पत्र और सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म को भी दिए गए नियत स्थान पर छोड़ना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज