अपना शहर चुनें

States

Kota: 18 नवजातों की मौत के बाद सियासत का अखाड़ा बना जेके लॉन अस्पताल, आज आयेगी मानवाधिकार आयोग की टीम

इस पूरे प्रकरण में उठे सियासी बवंडर के बीच आज राज्य मानवाधिकार आयोग के अधिकारी जेके लोन अस्पताल जायेंगे और वस्तुस्थिति का पता लगायेंगे.
इस पूरे प्रकरण में उठे सियासी बवंडर के बीच आज राज्य मानवाधिकार आयोग के अधिकारी जेके लोन अस्पताल जायेंगे और वस्तुस्थिति का पता लगायेंगे.

कोटा के जेके लॉन अस्पताल में 3 दिन में 18 नवजातों की मौत (Newborns deaths) के बाद अब इसको लेकर राजनीति चरम पर है. नवजातों की मौत से उठा सियासी बंवडर (Political strom) थमने का नाम नहीं ले रहा है.

  • Share this:
कोटा. कोचिंग सिटी कोटा का जेके लॉन अस्पताल 18 नवजातों की मौत (Newborns deaths) के बाद एक बार सियासत का अखाड़ा (Arena of politic) बन गया है. सरकार जहां अस्पताल में नवजातों की मौत पर बीजेपी (BJP) पर सियासत करने का आरोप लगा रही है वहीं बीजेपी कांग्रेस सरकार (Congress government) को मासूमों की मौत का जिम्मेदार मानते हुए चिकित्सा मंत्री से इस्तीफे की मांग कर रही है. अस्पताल में 3 दिन में हुई 18 शिशुओं की मौत के बाद सर्द मौसम में राजनीतिक पारा पूरे उफान पर है. इस बीच आज राज्य मानवाधिकार आयोग के अधिकारी अस्पताल का दौरा करेंगे.

जेके लॉन अस्पताल में 3 दिन में हुई 18 बच्चों की मौत के बाद राज्य सरकार की ओर से कमेटी का गठन कर पूरे मामले की जांच करवाई जा रही है. राज्य सरकार अस्पताल में समुचित संसाधनों को लेकर भी लगातार दावे कर रही है. दूसरी बीजेपी कांग्रेस सरकार को 2019 की तरह अस्पताल के इस मुद्दे पर घेरते हुए चिकित्सा मंत्री से इस्तीफे की मांग कर रही है. बीजेपी के जांच दल ने हाल ही में जेके लोन अस्पताल का निरीक्षण किया. उसके बाद विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया कि हालात 2019 जैसे ही हैं. अस्पताल में आज भी स्टाफ और संसाधनों का टोटा है. इंफेक्शन के खतरे से यहां नवजातों को बचाने का कोई इंतजाम सरकार द्वारा नहीं किये गये हैं.

Rajasthan: बीटीपी को मिला ओवैसी का साथ, गठबंधन हुआ तो बिगड़ सकते हैं 50 सीटों पर कांग्रेस के समीकरण

राज्य सरकार पर संवेदनहीन होने का आरोप


बीजेपी के जांच दल ने जेके लोन अस्पताल में 11 वार्ड में जाकर व्यवस्थाओं को देखा और अस्पताल प्रशासन से मौजूदा स्टाफ के साथ ही उपकरणों के बारे में भी जानकारी ली. बीजेपी की जांच कमेटी ने अस्पताल की व्यवस्थाओं पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं. जांच कमेटी में शामिल सांसद जसकौर मीणा ने अस्पताल की अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी जाहिर की. यही नहीं बीजेपी के जांच दल ने राज्य सरकार और अस्पताल प्रशासन पर यह भी आरोप लगाया है कि उसने केंद्र सरकार की ओर से अस्पताल को उपलब्ध कराये गये लाखों रुपए के उपकरण को काम में लिए जाने की बजाय कबाड़ में तब्दील कर दिया. बीजेपी के प्रदेश महामंत्री रामगंज मंडी से विधायक मदन दिलावर ने राज्य सरकार पर संवेदनहीन होने का आरोप लगाया.

कांग्रेस ने बीजेपी जांच दल के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन
जेके लॉन अस्पताल को लेकर बीजेपी की ओर से सरकार पर किए जा रहे हमले पर कांग्रेस ने कहा कि वह बच्चों की मौत पर राजनीति कर रही है. कांग्रेस ने बीजेपी की ओर से अस्पताल का निरीक्षण करने आए जांच दल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया. बहरहाल कोटा का जेके लॉन अस्पताल बच्चों की मौत को लेकर निशाने पर है.

आज मानवाधिकार आयोग की टीम करेगी अस्पताल का दौरा
इस पूरे प्रकरण में उठे सियासी बवंडर के बीच आज राज्य मानवाधिकार आयोग के अधिकारी जेके लॉन अस्पताल जायेंगे और वस्तुस्थिति का पता लगायेंगे. आयोग के सचिव बीएल मीणा और रजिस्ट्रार ओमी पुरोहित का आज दोपहर 12 बजे कोटा पहुंचने का कार्यक्रम है. वे 1 बजे संभागीय आयुक्त कार्यालय में अधिकारियों के साथ इस मामले को लेकर बैठक करेंगे. उसके बाद 2 बजे जेके लोन अस्पताल का निरीक्षण करेंगे. आयोग ने इस मामले में स्वप्रेरित प्रसंज्ञान लिया है. अधिकारी जांच कर आयोग अध्यक्ष को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज