लाइव टीवी

मुकुंदरा टाइगर रिजर्व: बाघ पुनर्वास के 2 साल हुए पूरे, अब कुनबा बढ़ने का इंतजार
Kota News in Hindi

News18 Rajasthan
Updated: April 4, 2020, 8:47 PM IST
मुकुंदरा टाइगर रिजर्व: बाघ पुनर्वास के 2 साल हुए पूरे, अब कुनबा बढ़ने का इंतजार
मुकुंदरा टाइगर रिजर्व का पहला एमटी-1 बाघ सवाई माधोपुर के रणथम्भौर टाइगर रिजर्व की मैंगो फैमिली का सदस्य है.

हाड़ौती के मुकुंदरा टाइगर रिजर्व (Mukundra Tiger Reserve) में बाघ पुनर्वास के 2 साल पूरे हो गए हैं. 3 अप्रेल 2018 को प्रदेश के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स में पहला बाघ बसाया गया था.

  • Share this:
कोटा. हाड़ौती के मुकुंदरा टाइगर रिजर्व (Mukundra Tiger Reserve) में बाघ पुनर्वास के 2 साल पूरे हो गए हैं. 3 अप्रेल 2018 को प्रदेश के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स में पहला बाघ बसाया गया था. इस बाघ को मुकुंदरा में शिफ्ट करने के बाद यहां रणथम्भौर से दो बाघिनों को भी शिफ्ट किया गया था. वहीं एक बाघ रणथम्भौर से खुद चलकर मुकुंदरा टाइगर रिजर्व में पहुंचा है. इस रिजर्व में अब 2 बाघ और बाघिनें हैं. वन्यजीव प्रेमियों को उम्मीद है जल्द ही इस रिजर्व में बाघों का कुनबा बढ़ेगा.

प्रदेश का तीसरा टाइगर रिजर्व है मुकुंदरा
मुकुंदरा प्रदेश का तीसरा टाइगर रिजर्व है. यह 759 वर्ग किलोमीटर में यह फैला हुआ है. 417.17 वर्ग किलोमीटर का इसका कोर एरिया है. वहीं 342.82 वर्ग किलोमीटर का इसका बफर जोन है. मुकुंदरा टाइगर रिजर्व का नोटिफिकेशन 10 अप्रेल 2013 को जारी हुआ था. 3 अप्रेल 2018 को इस रिजर्व में सबसे पहले सवाईमाधोपुर के रणथम्भौर टाइगर रिजर्व के टी-91 नर बाघ को लाया गया था. इसे यहां एमटी-1 नाम दिया गया. इसकी टेरिटरी वर्तमान में मुकुंदरा की दर्रा रेंज है.

2 घंटे बाद कैंटर से नीचे उतरा था टी- 91



रणथम्भौर टाइगर रिजर्व का टी-91 बाघ 19 नवंबर 2017 को वहां से निकलकर बूंदी जिले की रामगढ़ सेंचुरी में पहुंच गया था. 3 अप्रेल 2018 को इस बाघ को वन विभाग के चिकित्सा टीम ने ट्रेंकुलाइज करने के लिए दो बार डॉट मारी थी. इसके बाद सड़क मार्ग से इस बाघ को रामगढ़ सेंचुरी से मुकुंदरा टाइगर रिजर्व की दर्रा रेंज में बने एंक्लोजर में लाकर शिफ्ट किया गया था. तब से यह बाघ मुकुंदरा टाइगर रिजर्व निवास कर रहा है. जब बाघ की कैंटर से एंक्लोजर में सॉफ्ट रिलीज करवाई गई तो यह बाघ कैंटर से करीब 2 घंटे बाद मुकुंदरा टाइगर रिजर्व की सरजमीं पर उतरा. उसके बाद पहली बार मुकुंदरा टाइगर रिजर्व में बाघ की दहाड़ सुनाई दी. इसी के साथ बाघों से विहीन प्रदेश का तीसरा टाइगर रिजर्व मुकुंदरा रिजर्व बाघ के पुनर्वास से आबाद हुआ.



मैंगो फैमिली का है यह बाघ
मुकुंदरा टाइगर रिजर्व का पहला एमटी-1 बाघ सवाई माधोपुर के रणथम्भौर टाइगर रिजर्व की मैंगो फैमिली का सदस्य है. यह बाघ दुनियाभर में मशहूर रही रणभम्भौर की विश्वप्रसिद्ध बाघिन मछली का पोता है. मछली का परिवार मैंगो फैमिली के नाम से जाना जाता है.

Lockdown: कोचिंग सिटी कोटा में स्टूडेंट्स ने खुद को कमरों में किया 'आइसोलेटेड'

COVID-19: राजस्थान में अब 191 पॉजिटिव केस, इनमें 41 तबलीगी जमात से

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 4, 2020, 8:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading