Kota News : घूसखोरी में गिरफ्तार बारां के निलंबित कलेक्टर के खिलाफ एसीबी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल

रिश्वतखोरी में गिरफ्तार बारां के निलंबित कलेक्टर के खिलाफ एसीबी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई.. (सांकेतिक तस्वीर)

रिश्वतखोरी में गिरफ्तार बारां के निलंबित कलेक्टर के खिलाफ एसीबी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई.. (सांकेतिक तस्वीर)

कोटा देहात एसीबी के सीआई रमेश आर्य ने एसीबी कोर्ट में जो चार्जशीट पेश की है वह 565 पेज की है. चार्जशीट में 19 गवाहों का उल्लेख है. इसके अलावा एसीबी द्वारा किए गए अनुसंधान की प्रतिलिपि और विस्तृत ब्यौरे शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 10:12 PM IST
  • Share this:
कोटा. रिश्वत के आरोप में कोटा (Kota) की सेंट्रल जेल (Central Jail) में बंद बारां (Baran) के निलंबित (suspended) कलेक्टर इंद्रसिंह राव (Collector Indrasingh Rao) व उसके तत्कालीन पीए महावीर नागर (PA Mahavir Nagar) के खिलाफ आज एसीबी कोर्ट (ACB Court) में चार्जशीट (Charge sheet) दाखिल की गई. एसीबी कोर्ट ने पिछले दिनों दोनों की न्यायिक अभिरक्षा अवधि 15 फरवरी तक बढ़ाई थी. आपको बता दें कि करीब 42 दिन बाद हुआ पूर्व कलेक्टर के खिलाफ यह चार्जशीट पेश की गई है. कोटा देहात एसीबी के सीआई रमेश आर्य ने एसीबी कोर्ट में जो चार्जशीट पेश की है वह 565 पेज की है. चार्जशीट में 19 गवाहों का उल्लेख है जबकि बयानों और वार्ताओं के आधार पर एसीबी द्वारा किए गए अनुसंधान की प्रतिलिपि और विस्तृत ब्यौरे शामिल हैं.

निलंबित आईएएस इंद्रसिंह राव पिछले 42 दिनों से जबकि पीए महावीर लगभग 56 दिनों से जेल में बन्द हैं. 2 फरवरी को कोर्ट ने दोनों आरोपियों की न्यायिक अभिरक्षा अवधि 15 फरवरी तक बढ़ाई थी. पिछले दिनों कोटा के एसीबी कोर्ट में पेश की गई पूर्व कलेक्टर इंद्रसिंह राव की जमानत अर्जी भी खारिज कर खारिज कर दी गई थी. एसीबी की टीम ने 23 दिसम्बर को जयपुर में इंद्रसिंह राव को गिरफ्तार किया था.

इससे पहले पूर्व कलेक्टर इंद्रसिंह राव के पीए महावीर नागर को 9 दिसम्बर को बारां कलेक्ट्रेट परिसर में कार्रवाई करते हुए 1 लाख 40 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था. आरोपी पीए ने भी कलेक्टर के लिए रिश्वत लेने की बात कबूली था. बताया गया कि यह रिश्वत एक वादी से पेट्रोल पंप की एनओसी जारी करने के लिए ली जा रही थी. पिछले दिनों पूर्व कलक्टर इंद्रसिंह राव व पीए महावीर ने कोर्ट में पेशी के दौरान वॉइस सैंपल देने से मना कर दिया था. रिश्वत के मामले में गिरफ्तार कर कलक्टर को जेल भेजने का अपने आप मे कोटा में यह पहला मामला बताया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज