लाइव टीवी

भ्रष्टाचार के मामले में कोटा जिला प्रमुख गिरफ्तार, कांग्रेस ने किया निष्कासित
Kota News in Hindi

Shakir Ali | News18 Rajasthan
Updated: January 24, 2020, 8:20 AM IST
भ्रष्टाचार के मामले में कोटा जिला प्रमुख गिरफ्तार, कांग्रेस ने किया निष्कासित
रिश्वत केस में एसीबी ने पूरी जांच-पड़ताल के बाद जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर (लाल घेरे में) को आरोपी बनाया था.

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रिश्वत के मामले (Bribery case) में आरोपी बनाए गए कोटा जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर (Surendra Gochar) को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया है.

  • Share this:
कोटा. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रिश्वत के मामले (Bribery case) में आरोपी बनाए गए कोटा जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर (Surendra Gochar) को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया है. बाद में जिला प्रमुख को कोर्ट में पेश किया गया. वहां उसे 4 फरवरी तक न्यायिक अभिरक्षा (Judicial custody) में भेजने के आदेश दे दिए गए. जिला प्रमुख की गिरफ्तारी की सूचना के तत्काल बाद कांग्रेस (Congress) ने उसे पार्टी से निष्कासित (Expelled) कर दिया.

जिला प्रमुख का पीए पकड़ा गया था 25 हजार रुपए लेते हुए
जानकारी के अनुसार पिछले दिनों कोटा के कालिया खेड़ी सरपंच ने एसीबी में शिकायत दी थी कि निर्माण कार्यों की स्वीकृति जारी करने के लिए जिला परिषद में तैनात जिला प्रमुख का पीए चंद्रप्रकाश गुप्ता 25,000 रुपयों की डिमांड कर रहा है. इसका सत्यापन कराया गया तो शिकायत सही पाई गई. इस पर एसीबी ने कार्रवाई करते हुए जिला प्रमुख के पीए चंद्रप्रकाश गुप्ता को 25,000 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोच लिया था.

जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर की संलिप्तता सामने आई थी

इस प्रकरण में शामिल दूसरा बाबू कमलकांत वैष्णव मौके से फरार हो गया था. एसीबी की टीम ने बाद में उसे भी गिरफ्तार कर लिया था. पूछताछ में इस प्रकरण में जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर की संलिप्तता सामने आई. एसीबी ने पूरी जांच-पड़ताल के बाद जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर को भी आरोपी बनाया था. प्रकरण की जांच कर रहे एसीबी के सीआई ज्ञानचंद ने बताया कि रिश्वत के इस खेल में जिला प्रमुख की भूमिका सामने आने के बाद गुरुवार को उसके आवास से गिरफ्तार कर लिया गया.

पूर्व मंत्री भरत सिंह ने डिप्टी सीएम को लिखा था पत्र
जिला प्रमुख सुरेंद्र गुर्जर पूर्व मंत्री भरत सिंह के समर्थक माने जाते हैं. सुरेंद्र गोचर को जिला प्रमुख बनाने में सिंह का काफी सहयोग रहा था. लेकिन जैसे ही जिला प्रमुख के भ्रष्टाचार का मामला सामने आया तो पूर्व मंत्री भरत सिंह ने गहरी नाराजगी जाहिर की. उन्होंने डिप्टी सीएम सचिन पायलट को पत्र लिखकर सुरेंद्र गोचर को पद और पार्टी से बर्खास्त करने की मांग की थी. पूर्व मंत्री एवं सांगोद से विधायक भरत सिंह अपनी ईमानदार छवि के लिए जाने जाते हैं. इस प्रकरण के बाद उन्होंने बयान जारी कर कहा था ऐसे लोगों को कांग्रेस पार्टी में नहीं रखा जाना चाहिए. गुरुवार को जिला प्रमुख सुरेंद्र गोचर की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश कांग्रेस संगठन महासचिव महेश शर्मा ने उनके निष्कासन के आदेश जारी कर दिए. 

बूंदी: मनरेगा श्रमिक की पत्नी बनी सरपंच, मतदाताओं ने वोट के साथ दिए नोट

उदयपुर: देखिए कांग्रेस की हंसी और शरारत, तीन दिन से हो रही है जबर्दस्त चर्चा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 8:16 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर