गर्मी से हुए परेशान तो कूलर चलाने के लिए वेंटिलेटर का ही हटा दिया प्लग, मरीज की मौत
Kota News in Hindi

गर्मी से हुए परेशान तो कूलर चलाने के लिए वेंटिलेटर का ही हटा दिया प्लग, मरीज की मौत
तीन सदस्यीय समिति घटना की जांच करेगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोटा (Kota) में एक सरकारी अस्पताल में 40 वर्षीय एक व्यक्ति की तब मौत हो गई जब उसके परिजनों ने कूलर चलाने के लिए वेंटिलेटर का प्लग कथित तौर पर हटा दिया. कोरोना वायरस संक्रमण होने के संदेह में इस व्यक्ति को 13 जून को महाराव भीम सिंह (एमबीएस) अस्पताल (Maharao Bhim Singh (MBS) Hospital)की आईसीयू में भर्ती किया गया था.

  • Share this:
कोटा. राजस्थान के कोटा (Kota) में एक सरकारी अस्पताल में 40 वर्षीय एक व्यक्ति की तब मौत हो गई जब उसके परिजनों ने कूलर चलाने के लिए वेंटिलेटर का प्लग कथित तौर पर हटा दिया. इस व्यक्ति को कोरोना वायरस संक्रमण होने के संदेह में 13 जून को महाराव भीम सिंह (एमबीएस) अस्पताल (Maharao Bhim Singh (MBS) Hospital) की आईसीयू में भर्ती किया गया था. हालांकि बाद में जांच रिपोर्ट में वह कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाया गया. अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि तीन सदस्यीय समिति घटना की जांच करेगी.

ये है पूरा मामला
अस्पताल में व्यक्ति को 15 जून को सावधानी के तौर पर तब पृथक वार्ड में भेजा गया था जब आईसीयू में एक अन्य मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. क्योंकि पृथक वार्ड में बहुत गर्मी थी, इसलिए उसके परिजन उसी दिन एअर कूलर ले आए. जब उन्हें कूलर लगाने के लिए कोई सॉकेट नहीं मिला तो उन्होंने कूलर लगाने के लिए कथित तौर पर वेंटिलेटर का प्लग हटा दिया. लगभग आधा घंटे बाद वेंटिलेटर की बिजली खत्म हो गई.इस बारे में डॉक्टरों तथा चिकित्साकर्मियों को तुरंत सूचना दी गई जिन्होंने मरीज पर सीपीआर आजमाया, लेकिन उसकी मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- राज्यसभा चुनाव: 2 सीटों पर कांग्रेस और 1 पर BJP ने लहराया जीत का परचम
अस्पताल के अधीक्षक ने कही ये बात


महाराव भीम सिंह (एमबीएस) अस्पताल के अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना ने कहा कि तीन सदस्यीय समिति घटना की जांच करेगी जिसमें अस्पताल के उपाधीक्षक, नर्सिंग अधीक्षक और मुख्य चिकित्सा अधिकारी शामिल हैं. समिति शनिवार को अपनी रिपोर्ट देगी. उन्होंने कहा कि समिति ने पृथक-वार्ड के चिकित्साकर्मियों के बयान दर्ज किए हैं, लेकिन मृतक के परिजन समिति को जवाब नहीं दे रहे हैं. सक्सेना ने कहा कि जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. जबकि अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. समीर टंडन ने समिति की जांच को लेकर कोई टिप्पणी करने से इनकार किया और कहा कि जांच जारी है.

बहरहाल, घटना के संबंध में अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि परिजनों ने कथित तौर पर कूलर लगाने की अनुमति नहीं ली और जब मरीज की मौत हो गई तो उन्होंने ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डॉक्टर और चिकित्साकर्मियों से दुर्व्यवहार किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading