मिसाल: गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ कर मनीष मीणा ने दसवीं में हासिल किए 98.83 मार्क्स
Kota News in Hindi

मिसाल: गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ कर मनीष मीणा ने दसवीं में हासिल किए 98.83 मार्क्स
कोटा के गांव खेड़ा रसूलपुर के रहने वाले टॉपर छात्र मनीष अपने पिता मां व दादी

साधारण किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले मनीष ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने अभिभावकों और अध्यापकों को दिया है. आपको बता दें कि छात्र मनीष मीणा के दसवीं के परिणाम में 4 सब्जेक्ट इंग्लिश, साइंस, सोशल साइंस और गणित में शत-प्रतिशत अंक हैं.

  • Share this:
कोटा. दसवीं के नतीजों में कोटा जनपद (Kota District) के खेड़ा रसूलपुर गांव के सरकारी स्कूल के छात्र मनीष ने कमाल कर दिखाया. गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले मनीष मीणा ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा में 98.83 परसेंट नंबर हासिल कर कोटा शहर के नाम में चार चांद लगा दिए. पेशे से किसान पिता के बेटे मनीष की इस उपलब्धि से घर और गांव वाले खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं.

सफलता का श्रेय अभिभावकों और अध्यापकों को
मनीष खेड़ा रसूलपुर गांव का ही छात्र है. साधारण किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले मनीष ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने अभिभावकों और अध्यापकों को दिया है. आपको बता दें कि छात्र मनीष मीणा के दसवीं के परिणाम में 4 सब्जेक्ट इंग्लिश, साइंस, सोशल साइंस और गणित में शत-प्रतिशत अंक हैं. दसवीं का परिणाम जारी होते ही पूरे गांव में जश्न का माहौल हो गया. वहीं स्कूल की प्रधानाचार्य मिथिलेश नंदवाना ने भी परिवारजनों और मनीष मीणा को शुभकामनाएं दी. मनीष मीणा के पिता रामलाल मीणा ने बताया कि मनीष बचपन से ही पढ़ाई में तेज है. वो आगे चलकर IIT क्वालीफाई कर इंजीनियर बनना चाहता है.
ये भी पढ़ें- COVID-19: कोरोना संक्रमित 66 कैदी दून हॉस्पिटल में भर्ती, छावनी में तब्दील हुआ अस्पताल परिसर

रामलाल मीणा बताते हैं कि परिवार की आर्थिक हालत ठीक नहीं है लेकिन बच्चे की पढ़ाई के प्रति लगन को देखते हुए वह अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलवाने के लिए दिन-रात मेहनत करते हैं. मनीष की बड़ी बहन ने भी इस साल 12वीं की परीक्षा में 78 फ़ीसदी मार्क्स हासिल किए हैं. किसान रामलाल अपने बेटे की इस कामयाबी पर भावुक होते हुए बोले कि हम गरीब किसान हैं. 4 बीघा जमीन हमारे हिस्से में आई है उसी में खेती कर गुजर-बसर करते हैं और अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले इसके लिए दिन-रात मेहनत करते हैं. तो वहीं स्कूल की प्राचार्य मिथिलेश नंदवाना ने बताया कि मनीष मीणा स्कूल में भी अनुशासन के साथ सभी विषयों की गम्भीरता के साथ अध्ययन करता है स्कूल प्रशासन को इस होनहार बच्चे से ऐसी ही उम्मीद थी और वो उस पर खरा उतरा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading