मंत्री धारीवाल का बाबा रामदेव पर तंज बोले- 'बाबा के पास हर मर्ज की दवा, वो मरे आदमी को भी जिंदा कर सकते हैं'
Kota News in Hindi

मंत्री धारीवाल का बाबा रामदेव पर तंज बोले- 'बाबा के पास हर मर्ज की दवा, वो मरे आदमी को भी जिंदा कर सकते हैं'
बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा का दावा विवादों में है

मंत्री धारीवाल (Minister Shanti Dhariwal) ने कोटा शहर में चल रहे विकास कार्यो का निरीक्षण भी किया. जब मीडिया ने उनसे बाबा रामदेव (Baba Ramdev) के दावे के बारे में पूछा तो उन्होंने बाबा पर जमकर निशाना साधा.

  • Share this:
कोटा. योगगुरू बाबा रामदेव (Baba Ramdev) के द्वारा कोरोनावायरस (Coronavirus) की दवा के तौर पर कोरोनिल दवा (coronil medicine) को लान्च करने के बाद सियासत का बाजार गर्म है. बाबा रामदेव के इस दवा को लेकर किए गए दावे पर केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने संज्ञान लेते हुए इसे ड्रग एवं कॉस्मेटिक एक्ट-1940 और ड्रग एवं मैजिक रैमीडीज एक्ट-1954 का उल्लंघन मानते हुए दिव्य योग फार्मेसी (Divya Yoga Pharmacy) को नोटिस जारी की है. अब राजस्थान सरकार के मंत्री शांति धारीवाल ने भी बाबा के दावे का मजाक उड़ाया है.

राजस्थान में क्लीनिकल ट्रायल को लेकर भी विवाद
बाबा रामदेव की इस मेडिसिन के राजस्थान में क्लीनिकल ट्रायल को लेकर भी विवाद जोरों पर है. राजस्थान के यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने भी आज बाबा रामदेव की कोरोना की दवा के दावे पर तंज कसते हुए मजाकिया लहजे में कहा कि 'बाबा (रामदेव) के पास हर मर्ज की दवा है वो मरे हुए को भी जिंदा कर सकते है.' हालंकि राजस्थान यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने मजाकिया अंदाज में बाबा पर की दवा पर निशाना साधा लेकिन राजस्थान में बाबा की दवा की लांचिंग के बाद से ही विवाद चल रहा है चिकित्सा मंत्री भी बाबा रामदेव की दवा को लेकर अपना सख्त बयान दे चुके हैं और केंद्र सरकार से दिव्य योग फार्मेसी पर कार्रवाई की भी अपील कि है. बता दें कि यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल दो दिवसीय कोटा दौरे पर आए हैं इस दौरान मंत्री धारीवाल ने शहर में चल रहे विकास कार्यो का निरिक्षण भी किया. जब मीडिया ने उनसे बाबा रामदेव के दावे के बारे में पूछा तो उन्होंने बाबा पर जमकर निशाना साधा.

कोटा से बाबा रामदेव का रिश्ता
योगगुरू बाबा रामदेव का कोटा से गहरा रिश्ता है कोटा में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर साल 2018 में कई वर्ल्ड रिकॉड योग को लेकर कायम किए गए. एक साथ 2 लाख से ज्यादा लोगों को यहां बाबा रामदेव ने योग की क्रियाएं करवाई थीं और कोटा का नाम गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉड में दर्ज हुआ था. यही नहीं 100 और योग के रिकार्ड बनाए गए हैं जो दुनिया के किसी शहर में अब तक नहीं बने हैं. दरअसल, इसी हफ्ते मंगलवार को बाबा रामदेव ने कोरोना किट लॉन्च की थी. जिसमें दिव्य स्वासरी वटी और दिव्य कोरोनिल टेबलेट के साथ ही अणु तेल मौजूद था. रामदेव ने दावा किया था कि ये दवा कोरोना की दवा है. इससे कोरोना के पेशेंट शत-प्रतिशत ठीक हो जाएंगे. जिसके बाद मंगलवार शाम होते-होते बाबा रामदेव के इस दावे पर केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने संज्ञान ले लिया. आयुष मंत्रालय ने इसे ड्रग एवं कॉस्मेटिक एक्ट-1940 और ड्रग एवं मैजिक रैमिडिज एक्ट-1954 का उल्लंघन मानते हुए दिव्य योग फार्मेसी को नोटिस जारी किया कि दिव्य योग फार्मेसी को इसका लाइसेंस किसने जारी किया? किस आधार पर बाबा इसे कोरोना की दवाई बताते हुए शत प्रतिशत ठीक होने का दावा कर रहे हैं?



ये भी पढ़ें-COVID-19: Home Isolation में रह रहे लोगों को ऑक्सीमीटर प्रोवाइड कर रही दिल्ली सरकार, कंडीशन बिगड़ने पर तुरंत चलेगा पता


बुधवार को स्टेट ड्रग कंट्रोलर वाईएस रावत ने बाबा रामदेव की दिव्य योग फार्मेसी को भी नोटिस भेजा है. नोटिस में कहा गया है कि दिव्य योग फार्मेसी कोरोना की जो दवा बनाने का दावा कर रही है उसका आधार क्या है? फार्मेसी ने कोरोना किट बनाने की परमिशन कहां से ली? दूसरा, प्रचार-प्रसार के लिए फार्मेसी ने परमिशन क्यों नहीं ली? कहा गया है कि फार्मेसी ने ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट-1940 की धारा-170 का उल्लंघन कर भ्रामक प्रचार किया है. नोटिस में कहा गया है कि कोई भी इस तरह का मैजिकल ट्रीटमेंट का दावा नहीं कर सकता. फिर बाबा रामदेव किस आधार पर शत प्रतिशत ठीक होने का दावा कर रहे हैं. फार्मेसी ने इसमें भी ड्रग एंड मैजिक एक्ट -1954 का उल्लंघन किया है. फार्मेसी को हफ्ते भर के अंदर नोटिस का जवाब देने को कहा गया है. आयुष विभाग के स्टेट ड्रग कंट्रोलर यतेंद्र सिंह रावत का कहना है कि यदि फार्मेसी ने नोटिस का संतोष जनक जवाब नहीं दिया तो उसे विभाग द्वारा जो लाइसेंस इम्यूनिटी बूस्टर दवाओं के लिए जारी किया गया है, उसे निरस्त भी किया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading