कोटा में चंद्रसेल मठ का मूल स्वरूप बचाने के लिए आंदोलन शुरू

कोटा में चंद्रसेल मठ का मूल स्वरूप बचाने के लिए आंदोलन शुरू हो गया है. 0 वीं शताब्दी का चंद्रसेल मठ शिवभक्तों की आस्था का केंद्र रहा है. 1

ETV Rajasthan
Updated: February 13, 2018, 8:34 PM IST
कोटा में चंद्रसेल मठ का मूल स्वरूप बचाने के लिए आंदोलन शुरू
शिवभक्तो की आस्था का केंद्र 10 वीं शताब्दी के चंद्रसेल मठ फोटो-ईटीवी
ETV Rajasthan
Updated: February 13, 2018, 8:34 PM IST
पूरे देश में शिवरात्रि पर शिव मंदिरों पर श्रद्धालु पूजा अर्चना के लिए उमड़ रहे हैं वही कोटा में शिवभक्तों की आस्था का केंद्र रहे 10 वीं शताब्दी के चंद्रसेल मठ का मूल स्वरुप बचाने को लेकर आंदोलन शुरू हो गया है. शिवरात्रि के उपलक्ष्य में धरोहर के संरक्षण का प्रण लेकर पगमार्क फाउंडेशन के संयोंजक देवव्रत सिंह हाड़ा की अगुवाई में श्रद्धालु ने मठ पहुंचकर भगवान शिव का पंचामृत से महाभिषेक किया और भगवान से पुरातत्व विभाग के अधिकारियों को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की.

फाउंडेशन के पदाधिकारियों का आरोप है कि मठ का जीर्णोद्धार करने के नाम पर पुरातत्व विभाग इसके मूल स्वरुप को नष्ट कर रहा है जिसे लेकर लोगों में नाराजगी है. इसके अलावा पुरा संपदा को भी संभालकर नहीं रखा जा रहा है. कई बार खामियों को उजागर करने के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी गलतियों को सुधारने की जगह मामले को दबाने में लगे हुए हैं जिससे मठ की निर्माण कला और ऐतिहासिक महत्व पर खतरा मंडराने लगा है.

इसे देखते हुए ही आंदोलन करने का निर्णय लिया गया है. इस दौरान वरिष्ठ भाजपा नेता लोकेन्द्र सिंह राजावत भी इस अभिषेक में शामिल हुए और उनकी आवाज को उच्चाधिकारियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया. साथ ही कहा कि वह अपने स्तर से भी कोशिश करेेंगे.( रिपोर्ट-सचिन)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर