Kota News: जमीन के लिए 30,000 रुपए घूस ले रहा था सरपंच, ACB ने रंगे हाथ धरदबोचा

उन्होंने बताया कि इसी के आधार पर सरपंच को रिश्वते लेते रंगे हाथों और बिचौलिए को भी गिरफ्तार कर लिया गया. (सांकेतिक फोटो)

एसीबी के निरीक्षक ज्ञानचंद मीणा (Gyanchand Meena) ने बताया कि एक भूखंड की लीज के कागजात जारी करने के एवज में सरपंच ने स्थानीय निवासी से 80,000 रुपये रिश्वत मांगी थी.

  • Share this:
    कोटा. भ्रष्टाचार निरोधी ब्यूरो ने बारां जिले के गदरेठा ग्राम पंचायत (Gadretha Gram Panchayat) के सरपंच (Sarpanch) को कथित रूप से 30,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए सोमवार को गिरफ्तार कर लिया. यह जानकारी एक अधिकारी ने दी. एसीबी के निरीक्षक ज्ञानचंद मीणा (Gyanchand Meena) ने बताया कि एक भूखंड की लीज के कागजात जारी करने के एवज में सरपंच ने स्थानीय निवासी से 80,000 रुपये रिश्वत मांगी थी. उन्होंने बताया कि सरपंच जितेन्द्र शक्यावाल ने एक बिचौलिए की मदद से रिश्वत मांगी थी और अंत में बात 30,000 रुपये पर तय हुई. उन्होंने बताया कि स्थानीय निवासी चम्पालाल मेहाटा ने सरपंच और बिचौलिए के खिलाफ एसीबी में शिकायत दर्ज कराई. उन्होंने बताया कि इसी के आधार पर सरपंच को रिश्वते लेते रंगे हाथों और बिचौलिए को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

    बता दें बीते दिनों झुंझुनूं में सीकर एसीबी की टीम ने कार्रवाई करते हुए एक एएसआई को 15 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था. खास बात यह है कि यह शिकायत एक रिटायर्ड फौजी ने की थी, जो पहले से ही सालों से अपने पारिवाकर झगड़ों से परेशान था और आर्मी से वीआरएस ले चुका था. जो एएसआई गिरफ्तार किया गया है, उसका भी सात महीने बाद रिटायरमेंट होने वाला था.

    50 हजार रुपये की रिश्वत मांगी


    सीकर एसीबी के डीएसपी जाकिर अख्तर ने बताया था कि गुढ़ागौड़जी थाना इलाके के रघुनाथपुरा गांव निवासी रामप्रताप ने सीकर एसीबी में शिकायत की थी कि उसकी पत्नी और दो साल की बेटी के साथ 28 अगस्त को परिवार के ही लोगों ने मारपीट की थी. इस मामले की जांच भोड़की चौकी प्रभारी एएसआई रामस्वरूप के पास थी. वह लगातार मामले में कार्रवाई ना करने के लिए टालमटोल कर रहा था, जिसके बाद पिछले दिनों एएसआई ने उससे मामले में मदद करने और उसकी पत्नी के 164 में बयान करवाने के लिए 50 हजार रुपये की रिश्वत मांगी.

    इसके बाद रामप्रताप ने सीकर एसीबी में इसकी शिकायत की थी. दो दिन पहले 10 नवंबर को शिकायत का सत्यापन करवाया तो सौदा 30 हजार रुपये में तय हुआ. उस दौरान एएसआई ने पीड़ित से पांच हजार रुपये ले लिये. शेष पैसे आज देने थे. रामप्रताप 15 हजार रुपये लेकर गया तो एएसआई ने वो पैसे ले लिए और एसीबी की टीम ने चौकी में ही आरोपी को दबोच लिया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.