अपना शहर चुनें

States

कोटा में एक लाख के इनामी बदमाश का अब मकान तोड़ेगी राजस्थान सरकार

राजस्थान अपराध शाखा के एसपी राहुल कोटोकी ने असलम सिंटू के नाम 1 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है. (प्रतीकात्मक फोटो)
राजस्थान अपराध शाखा के एसपी राहुल कोटोकी ने असलम सिंटू के नाम 1 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है. (प्रतीकात्मक फोटो)

कोटा पुलिस की 6 टीमें सरगर्मी से कर रही है अपराधी असलम चिंटू की तलाश. सलम शेर खान चिंटू के खिलाफ दर्ज मामलों में कोर्ट ने 3 सप्ताह में उसकी गिरफ्तारी का आदेश भी दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2021, 9:46 PM IST
  • Share this:
कोटा. कोटा (Kota) का एक हिस्ट्रीशीटर इन दिनों सुर्खियों में है. वजह है कि पहली बार कोटा पुलिस (Kota Police) ने एक हिस्ट्रीशीटर पर 1 लाख रुपये का इनाम रखा है. यह घोषणा राजस्थान अपराध शाखा (Rajasthan Crime Branch) के एसपी राहुल कोटोकी ने की. हिस्ट्रीशीटर का नाम है असलम सिंटू. उसके घर पर नोटिस चस्पा कर उत्तर प्रदेश की तर्ज पर मकान तोड़ने की भी चेतावनी दी गई है. असलम शेर खान चिंटू के खिलाफ दर्ज मामलों में कोर्ट ने 3 सप्ताह में उसकी गिरफ्तारी का आदेश दिया है. चिंटू पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस ने यूआईटी को पत्र लिखकर उसकी संपत्ति जांच करने के लिए कहा था. इस पर उसके बंगाली कॉलोनी छावनी स्थित मकान की जांच यूआईटी द्वारा करवाई गई तो पता चला कि मौके पर प्लाट नंबर 1 जो जी प्लस 3 है, उसके निर्माण की परमिशन नहीं ली गई थी. उसके मकान पर यूआईटी द्वारा नोटिस चस्पा कर 25 फरवरी तक जवाब पेश करने या खुद तोड़ लेने की मोहलत दी गई है. ऐसा नहीं होने पर यूआईटी द्वारा मकान तोड़ दिया जाएगा.

चिंटू के खिलाफ एक साथ 4 गिरफ्तारी वारंट जारी

असलम और चिंटू के विरुद्ध कोटा के 4 न्यायालय द्वारा लंबित प्रकरणों में गिरफ्तारी वारंट जारी किए गए हैं. न्यायालय द्वारा गुमानपुरा थाने के जमील हत्याकांड केस, न्यायालय महिला उत्पीड़न द्वारा प्रॉपर्टी डीलर पर फायरिंग, एससी-एसटी कोर्ट द्वारा गवाहों को धमकाने और अपहरण के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किए गए.



भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का जिलाध्यक्ष भी 1 दिन के लिए रहा है चिंटू असलम
असलम चिंटू हिस्ट्रीशीटर होने के साथ-साथ कोटा के सफेदपोश लोगों का भी करीबी रहा है. यही वजह है कि असलम चिंटू को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में एक बार जिलाध्यक्ष नियुक्त किया गया था. लेकिन जैसे ही हिस्ट्रीशीटर के जिला अध्यक्ष की खबरें सुर्खियां बनीं, तो भाजपा ने तुरंत उसको पद से हटा दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज