राजस्थान: सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लुटेरों ने चलती ट्रेन से बाहर फेंका, दोनों पैर कटे

Shakir Ali | News18 Rajasthan
Updated: September 7, 2019, 5:52 PM IST
राजस्थान: सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लुटेरों ने चलती ट्रेन से बाहर फेंका, दोनों पैर कटे
ट्रेन में लूटपाट का विरोध कर रहे कोटा के सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लुटेरों ने बेदर्दी से चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया. इससे उसके दोनों पैर कट गए. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

ट्रेन (train) में लूटपाट का विरोध कर रहे कोटा (Kota) के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software engineer) को लुटेरों ने ओखला के पास चलती ट्रेन से बाहर फेंक (Throw out) दिया.

  • Share this:
कोटा. ट्रेन (train) में यात्रियों से लूटपाट कर रहे लुटेरों (Robbers) का विरोध (protest) करना कोटा के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software engineer) की जिंदगी पर भारी पड़ गया. लुटेरों के विरोध ने उसे जिंदगीभर के लिए अपंग (disabled person) बना दिया. लूटपाट का विरोध कर रहे इंजीनियर को लुटेरों ने चलती ट्रेन से बाहर फेंक (Throw out) दिया. इससे उसके दोनों पैर कट (Cut both legs) गए. पीड़ित इंजीनियर का दिल्ली के अपोलो अस्पताल (Apollo Hospital) में इलाज चल रहा है. उसके परिजनों ने इस मामले में रेलवे प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं.

कोटा से दिल्ली जा रहा था दीपक शुक्ला
वारदात का शिकार हुआ सॉफ्टवेयर इंजीनियर दीपक शुक्ला कोटा के कुन्हाड़ी इलाक़े रहने वाला है. दीपक दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता है. वह पिछले दिनों अपने घर कोटा आया हुआ था. कोटा से वह 2 दिन पहले 5 सितंबर को दिल्ली जाने के लिए हजरत निजामुद्दीन इंटरसिटी में सवार हुआ था. वह सामान्य श्रेणी के डिब्बे में था. रास्ते में 3-4 बदमाश यात्रियों से लूटपाट कर रहे थे. दीपक ने उनका विरोध किया. इससे लुटेरे उससे झगड़ पड़े और ओखला के पास चलती ट्रेन से उसे बाहर फेंक दिया. ट्रेन की चपेट में आने से दीपक के घुटनों तक के दोनों पैर कट गए.

ट्रेन रुकने पर यात्रियों ने जाकर संभाला

ओखला में ट्रेन रुकने पर कुछ यात्री मौके पर पहुंचे. उन्होंने गंभीर घायल दीपक को अस्पताल पहुंचाकर उसके परिजनों को सूचना दी. इस पर परिजन दिल्ली पहुंचे. वहां पहुंचकर बेटे की हालत देखकर उनके पैरों तले से जमीन खिसक गई. ट्रेन की चपेट में आने से दीपक के दोनों पैर कट चुके हैं.

अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई
निजामुद्दीन स्टेशन पर इसका मामला दर्ज कराया गया है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. परिजनों का आरोप है कि दीपक ने जब लुटेरों का विरोध किया तो वहां मौजूद रेलवे के सुरक्षाकर्मियों ने कोई सहयोग नहीं किया. नतीजतन लुटेरों के हौंसले बुलंद रहे और उन्होंने दीपक को चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया.
Loading...

ये भी पढ़ें-

कोटा में 9वीं मंजिल से गिरी मासूम, मौके पर हुई दर्दनाक मौत

कोटा पुलिस 'मेला' लगाकर बांट रही है मोबाइल, यहां जानिए वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 5:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...