बोलीं सीएम राजे, एसी कमरों से बाहर निकलें अधिकारी और क्षेत्र में दौरे करें


Updated: September 16, 2017, 7:07 PM IST
बोलीं सीएम राजे, एसी कमरों से बाहर निकलें अधिकारी और क्षेत्र में दौरे करें
अधिकारियों की बैठक लेती हुईं वसुंधरा राजे.

Updated: September 16, 2017, 7:07 PM IST
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि सरकार की घोषणाएं निश्चित समय सीमा में पूरी हों. सुराज संकल्प यात्रा, सुराज संकल्प पत्र और बजट घोषणाओं में जो भी विकास कार्यों का एलान हुआ है, उन्हें अधिकारी पूरा करें. जो काम नहीं हो सकते, उनके कारण जनता को स्पष्ट बता दें.

सीएम राजे बूंदी में 'आपका जिला आपकी सरकार' कार्यक्रम के तीसरे दिन शनिवार को जिला कलेक्ट्रेट में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं. इस बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी जिला अधिकारियों से फीडबैक लिया. बाद में एसडीओ, बीडीओ एवं पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक हुई.

उन्होंने कहा कि पानी, बिजली, सड़क, चिकित्सा और शिक्षा जैसी आधारभूत सुविधाओं सहित नागरिकों की विभिन्न समस्याओं के निस्तारण के लिए 181 हेल्पलाइन कॉल सेंटर व्यवस्था शुरू की गई है. इसके लिए तीन स्तर पर समीक्षा और शिकायतकर्ता की संतुष्टि जानने के लिए व्यवस्था की गई है. इसलिए अधिकारी होल्पलाइन पर आने वाली जनशिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता से करना सुनिश्चित करें.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बूंदी बहुत खूबसूरत शहर है. इसे कुदरत ने बहुत ही सुन्दरता दी है. लोग इसे छोटी काशी कहते हैं. हमें इसका वैभव काशी जैसा ही बनाए रखना चाहिए. इसकी सुन्दरता को निखारने के लिए यहां के लोगों का भी सहयोग लेना चाहिए.

उन्होंने कहा कि दीवारों पर पोस्टर चिपकाकर उन्हें खराब करने वालों, इधर-उधर कचरा फैलाकर शहर को गंदा करने वालों और किसी न किसी रूप में शहर को बदरंग करने वालों को समझाइश के माध्यम से ऐसा काम करने से रोका जाए. यदि वे फिर भी न मानें, तो उनके खिलाफ कानूनी एक्शन लें. मुख्यमंत्री ने शहर की दुकानों के बाहर हरे और नीले रंग के दो डस्टबिन अनिवार्य रूप से रखवाने के भी जिला कलेक्टर को निर्देश दिए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो काम मैं कर सकती हूं, वह आप क्यों नहीं? उन्होंने अधिकारियों से कहा कि मैं अचानक पहुंचकर किसी भी गांव या कस्बे की समस्या को देखने का काम कर सकती हूं, तो आप क्यों नहीं? मोतीपुरा के पुलिया पर मेरी नजर तो पड़ गई, आपकी क्यों नहीं?

उन्होंने कहा कि अधिकारी एसी कमरों से बाहर निकलें और क्षेत्र में दौरे करें, रात्रि विश्राम करें. ताकि उन्हें पता चल सके कि कहां क्या खामी है और किस तरह से जनता को राहत दी जा सकती है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी सुनिश्चित कर लें कि लोगों को घरेलू बिजली 22 से 24 घंटे मिले. जो भी सुधार करना है वे करें, लेकिन आमजन को पर्याप्त बिजली मिले. उन्होंने कहा कि बिजली की छीजत एक बहुत बड़ी समस्या है. सभी के सहयोग से इसका हल निकाला जाना चाहिए. बिजली छीजत हर हाल में रूकनी चाहिए. इसके लिए जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेना चाहिए.

सीएम राजे ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि राशन की दुकानों के डीलर पोस मशीन के माध्यम से ही राशन वितरण करें और इस बात का भी ध्यान रखें कि उपभोक्ताओं को उनके मोबाइल पर शेष राशन की जानकारी अवश्य मिले.
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर