राजस्थान: मूसलाधार बारिश के साथ गिरे ओले, फसल बर्बाद, मुआवजे की आस में किसान

तेज बारिश से फसल को नुकसान पहुंचा है.

तेज बारिश से फसल को नुकसान पहुंचा है.

Rajasthan Weather Update: राजस्थान के कोटा (Kota) जिले के कनवास और सांगोद उपखंड में तेज बारिश के साथ ओले गिरे. बारिश की वजह से फसलों को भी नुकसान पहुंचा है.

  • Share this:
कोटा. राजस्थान के कोटा (Kota) जिले के कनवास और सांगोद उपखंड क्षेत्र में शुक्रवार को कुदरत का कहर देखने को मिला. तेज मूसलाधार बारिश (Heavy Rsin) के साथ जबरदस्त ओलावृष्टि (Hail Storm) हुई. इन दोनों उपखंड  क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों के सारे सपने लील लिए हैं. 20 मिनट की बारिश ने बरसाती नालों में उफान ला दिया. गांव के गलियारों में, सड़कों पर, घरों के आंगन में सफेद चादर बिछ गई. यहां तक कि बरसाती नालों में आया उफान अपने तेज बहाव के साथ खेतों में कटकर पड़ी फसल तक को बहाकर ले गया.

पश्चिमी विक्षोभ के चलते बेमौसम बारिश ने किसानों के अरमानों को तेज हवाओं के साथ हुई मूसलाधार बारिश ने पानी पानी कर दिया. कनवास उपखंड क्षेत्र के उरना गांव के रहने वाले किसानों प्रेमशंकर गोचर ने बताया कि गांव में शाम 5:30 बजे तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई. आंखों के सामने चने के आकार के ओले गिरने लगे. तकरीबन 20 मिनट तक ओलावृष्टि होती रही.

बरसाती नाले उफान पर

प्रेमशंकर गोचर के मुताबिक उरना गांव में हुई बारिश के दौरान गांव के बरसाती नाला उफान पर आ गए. उरना महादेव की पुलिया पर एक से डेढ़ फीट की चादर चली. यह नाले का उफान अपने तेज बहाव के साथ किसान मोहनलाल सुमन की खेत में काटकर सूखाने के लिए डाल रखी  4 बीघा की चने की फसल को बहाकर ले गया. किसान प्रेमशंकर गोचर का कहना है कि उरना, खजूरना, जागलियांहेड़ी, कोर्ट बावड़ी, मंगलपुरा, खोदिया खेड़ी गांव, मोहनपुरा में मूसलाधार बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों का सब कुछ तबाह कर दिया. प्रभावित किसान इस फसल नुकसान की भरपाई के लिए सरकार की ओर देख रहै है. मुआवजे की मांग कर रहै है ताकि किसानों को जो आर्थिक नुकसान इस कुदरत के कहर से हुआ है उसकी भरपाई हो सके.
ये भी पढ़ें: बारिश से बचने को पेड़ के नीचे खड़े थे चार लोग, अचानक गिरी बिजली और...देखें Live Video

तेज हवाओं के साथ हुई बारिश

इधर, देवली मांझी क्षेत्र के ग्राम पीसाहेड़ा व आसपास के गांवों में देर शाम को तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश और ओलावृष्टि हुई. बारिश व ओलावृष्टि से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें छा गई है. तेज हवाओं की वजह से खेतों में लहरा रही फसलें नीचे जमीन पर धराशाई हो गई है. तेज हवाओं के कारण बारिश से फसलों में बहुत अधिक नुकसान हुआ है. इस पर सांगोद पंचायत समिति के पूर्व उप प्रधान नंदकिशोर मालव द्वारा प्रशासन से ओलावृष्टि से होने वाले नुकसान का सर्वे कर किसानों को होने वाले नुकसान का आकलन कर मुवावजा देने की मांग की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज