Rajasthan Audio Tape Case: ट्विटर पर मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने लिखा ''यतो धर्मस्ततो जयः''
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Audio Tape Case: ट्विटर पर मंत्री  गजेन्द्र सिंह शेखावत ने लिखा ''यतो धर्मस्ततो जयः''
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने एक खास ट्वीट किया है. (File Photo)

Rajasthan Audio Clip Case: अपने ट्वीट (Tweet) में गजेन्द्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने संस्कृत का एक श्लोक ''यतो धर्मस्ततो जयः'' लिखा है. बता दें कि ये श्लोक सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का मोटो भी है जिसका हिंदी में अर्थ है जहां धर्म है वहां जय (जीत) है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में सियासी हलचल को ऑडियो क्लिप (Audio Clip) ने और हवा दे दी है. कांग्रेस का आरोप है कि ऑडियो क्लिप में केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) की आवाज है. आरोपो के बीच केंद्रीय मंत्री शेखावत ने एक खास ट्वीट किया है. अपने ट्वीट (Tweet) में उन्होंने संस्कृत का एक श्लोक ''यतो धर्मस्ततो जयः'' लिखा है. बता दें कि ये श्लोक सुप्रीम कोर्ट का मोटो भी है जिसका हिंदी में अर्थ है जहां धर्म है वहां जय (जीत) है. वहीं, ऑडियो टेप मामले को लेकर केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहना है कि अगर ऑडियो में गजेंद्र बात कर रहा है तो इसका मतलब यह नहीं कि वह गजेंद्र में ही हूं. उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस में ही नजर दौड़ाई जाए तो गजेंद्र नाम के कई वर्तमान और पूर्व विधायक मिल जाएंगे. गजेंद्र कॉमन नाम है जो किसी का भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि वे किसी से भी बात करते वक्त अपना पूरा नाम गजेंद्र सिंह शेखावत बताते हैं.

'जांच के लिए तैयार हूं'

गजेन्द्र सिंह शेखावत का कहना है कि आजकल कई तरह के ऐसे सॉफ्टवेयर भी मार्केट में उपलब्ध हैं जिनसे वॉइस क्लोन करना बहुत आसान हो गया है. हो सकता है गजेंद्र नाम लेकर वॉइस क्लोनिंग के जरिए इस ऑडियो क्लिप में आवाज डाली गई हो. शेखावत ने ऑडियो रिलीज करने वालों को चुनौती देते हुए कहा कि इस ऑडियो से उनका कोई संबंध नहीं है और ना ही इसमें उनकी आवाज है. शेखावत ने ऑडियो को जांच का विषय बताते हुए कहा कि वे किसी भी एजेंसी की ओर से बुलाए जाने पर हर तरह की जांच के लिए तैयार हैं.





ये भी पढ़ें: मेरठ: यहां गोबर से हो रहे लोग मालामाल, जानें क्या है मामला

 फेयर जांच जरूरी

शेखावत ने कहा कि वे दावे से कह सकते हैं उन्होंने ना तो किसी से टेलीफोन पर इस तरह से बात की है और ना ही ऑडियो क्लिप में बात करने वाले व्यक्ति का लहजा और बोली उनसे मिलती है. उन्होंने कहा की वे राजस्थान के मारवाड़ इलाके से ताल्लुक रखते हैं और उनकी भाषा में मारवाड़ी बोली का लहजा है. लेकिन ऑडियो में बात कर रहे शख्स की भाषा में बीकानेर इलाके की बोली का लहजा है. फ्री और फेयर जांच से ही इस पूरे मामले में आवाज और बात कर रहे लोगों के बारे में चीजें साफ हो सकती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज